Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

राजनीतिक सरगर्मियॉ

about political thoughts,stability, ups and downs, scandals

66 Posts

541 comments

Ram Pandey Editor Jagran Prakashan Limited


Sort by:

योग और मेडिसीन इनके लिए बेकार हैं

Posted On: 12 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

सोशल इश्यू में

3 Comments

मातृ संगठन से बड़े होने की सजा

Posted On: 11 Jun, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

समलैंगिक जमात के उन्मूलन की अनिवार्यता

Posted On: 26 Jul, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

में

8 Comments

मुद्दा तो कहीं दूर छूट गया !!

Posted On: 15 Jun, 2011  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 1.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

2 Comments

Page 1 of 712345»...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

http://omy9tp52.clembuterx.com isabel marant h&m menswear prices http://mtwlt5ww.brscash.com isabel marant boots gwyneth paltrow sheer dress http://a9sdvj6k.brscash.com isabel marant dulcie theatre livingston mt http://hnabb6jc.clembuterx.com cheap isabel marant sneakers men vest http://stkiwyvt.sweitzersimson.com isabel marant sneakers zara quality

के द्वारा:

आदरणीय पाण्डेय जी, उक्त सम्बन्ध में आप के विचार बड़े गंभीर और महत्तवपूर्ण हैं | यह विषय ही ऐसा है कि इस पर बहुत खुलकर लिखने-बोलने में संकोच होता है | जबकि वे कितनी निर्लज्जता के साथ निडर होकर इसकी माँग करते हैं | पर इसके अस्तित्व को दबाने-मिटाने के लिए केवल और केवल दण्ड का उपाय कारगर नहीं हो सकता | आज अधिकतर दुनिया लोकतांत्रिक व्यवस्था की कायल है | ऐसे में समलैंगिकता पर चौतरफे प्रहार की नितांत आवश्यकता है | शासन और समाज को इसके विरुद्ध कैशोर्य-शिक्षा, काउंसलिंग, अनुशासन के साथ-साथ साम, दाम, दण्ड और भेद की नीतियों का पुरजोर प्रयोग करना होगा, तब जाकर कहीं तेजी से बढ़ रही इस महामारी पर लगाम लगाया जा सकेगा | अब देखिए, आखिर सर्वोच्च न्यायालय ने भी अपना पल्लू छुड़ाने के लिए विधायिका को एक राह सुझा ही दी, जिसे पकड़कर सारे-के-सारे सफेदपोश समलैंगिक कुतर्कों की गेंदें उछालने लगे हैं | जब समलैंगिकता दंडनीय अपराध है ही, तो क्या ज़रुरत थी न्यायालय को संसद के मन में धारा- 377 को निर्मूल करने की इच्छा जागृत करने की कि यदि वह चाहे तो ऐसा कर सकती है | अंतत: इस जटिल विषय पर प्रभावी आलेख के लिए हार्दिक साधुवाद एवं सद्भावनाएँ !

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

BLOG-IN INDIA WOMAN SOCIAL EMPOWERMENT HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES WOMAN SOCIAL EMPOWERMENT VERY-VERY BIG ROLE OF SUFFICIENT NUMBER WOMAN HAVE LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION BLOG BY MANTU KUMAR SATYAM -Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING /HARDWARE,AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING,Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN/SARATH MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY,DIST-DEOGHAR,JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490,AADHAR CARD ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184,DATE-10/12/2012 ,TIME-13:43:52,AADHAAR NUMBER-310966907373 ) MY BLOG URL-http://mantusatyamwomanempowerment BLOG DETAIL-IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES WOMAN SOCIAL EMPOWERMENT VERY-VERY BIG ROLE OF SUFFICIENT NUMBER WOMAN HAVE LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION I t have to also seen on HINDU RELIGION GENERAL CASTES/also other castes which have join some well number to lawyer and M.B.B.S/M.D /M.S degree profession to social empowerment of woman have to benefit by the LAWYER/M.B.B.S/M.D/M.S degree profession .LAWYER and M.B.B.S In the comparison of officer and politician very -very big difference of IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES SOCIAL EMPOWERMENT have to say negligible. sufficient number LAWYER and M.B.B.S /M.D /M.S degree profession have face all political problem arise in development . It have to seen IN INDIA HINDU RELIGION which individual castes have sufficient number lawyer and M.B.B.S degree profession acquire more powerful ,business ,industory ,tender ,land owner e.t.c

के द्वारा:

BLOGG/JOURNAL- IN INDIA, HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES ,O.B.C WEAKER SECTIONS ,S.C/S.T DEVELOPMENT ,BUSSINESS , INDUSTRY,TENDER VERY -VERY BIG ROLE OF POVERTY SOLUTION JOIN SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND MBBS / MD / MS DEGREE / PROFFESION ……..BY-MANTU KUMAR SATYAM,, Religion-Hindu, Category-OBC (Weaker section), caste-Sundi (OBC weaker section), SEX-MALE, AGE-29Y Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING / HARDWARE, AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir, castair town, SARWAN / SARATH MAIN ROAD,, DEOGHAR, DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112, INDIA.MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY, DIST-DEOGHAR, JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490, AADHAR CARD ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184, DATE-10/12/2012, TIME-13: 43: 52, AADHAAR NUMBER-310966907373) occupation-MSCCRRA study from SMUDE, SYNDICATE HOUSE, MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS, NEW DELHI (SESSION-2012-14, 2ND YEAR) …. … ALSO READ MY BLOG-http :/ / mantusatyam.blogspot.com/2013/08 / ……. BELOW THE BLOGG/JOURNAL WANT TO PUBLISH ……….. BLOG DETAIL-concerned, political, economical and social in reference INDIA, HINDU RELIGION caste system social structure, caste power (DABANG), business (INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system, caste power (DABANG), development or advancement or business (INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste / INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power (DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very – very small role or huge difference COMPARISON than LAW and MBBS / MD / MS HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development, POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer MBBS / MD / MS the casts benefit of 10% of sufficient number. SUFFICIENT NUMBER LAWYER WITH MBBS / MD / MS OF HINDU RELIGION OF INDIVIDUAL CASTES FACE / SOLVE ALL ARISE POLITICAL PROBLEM OF DEVELOPMENT. . Its important in other word say it, IN INDIA, HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN, BHUMIHAR, RAJPUT, KAYASTH, KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business, govt tender, land owner etc. Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and MBBS / MD / MS degree of individual general castes, HINDU RELIGION, INDIA for the maintain of caste power, advancement / development like huge scale of business, land owner and govt tender. Without sufficient no.of LAWYER and MBBS / MD / MS degree HINDU RELIGION, general caste / and other huge scale of business, INDIA (due to same of complicated HINDU RELIGION, CASTE social structure in INDIA) have many factors / issue arises of huge scale business, huge scale LAND OWNER, GOVT. TENDER etcIts have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION, INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and MBBS / MD / MS In some cases it have to seen. Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree In under of the self / own HINDU religion (minority CASTES), INDIA of complicated caste structure face very-very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers. Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three) rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario LOW POPULATION caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS degree more development like power business complicated caste social structure rather then SC / ST join the profession politicians and officers in long to long time / year in same conditions.Also they caste have sufficient number lawyer acquire good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then SC and ST. It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of LLB / LLM. Also KURMI caste in BIHAR / JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S / MD /M.S NOTE-In the point of view LLB / LLM and MBBS / MD / MS not meaning of only court and medicine practice (ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective / efficient due to key point / key master of caste power, business, land owner, govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS, by which caste persons LAWYER and MBBS / MD / MS degree or professionals occupied have not done self / own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business (INDUSTRY) NOTE-In the point of view B.TECH / M.TECH and MBA have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion, INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand, complicated issue from powerful castes etcBut it have not problem of HINDU RELIGION more population caste in INDIA …….

के द्वारा:

BLOGG/JOURNAL- IN INDIA, HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES ,O.B.C WEAKER SECTIONS ,S.C/S.T DEVELOPMENT ,BUSSINESS , INDUSTRY,TENDER VERY -VERY BIG ROLE OF POVERTY SOLUTION JOIN SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND MBBS / MD / MS DEGREE / PROFFESION …… ..BY-MANTU KUMAR SATYAM,, Religion-Hindu, Category-OBC (Weaker section), caste-Sundi (OBC weaker section), SEX-MALE, AGE-29Y Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING / HARDWARE, AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir, castair town, SARWAN / SARATH MAIN ROAD,, DEOGHAR, DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112, INDIA.MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY, DIST-DEOGHAR, JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490, AADHAR CARD ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184, DATE-10/12/2012, TIME-13: 43: 52, AADHAAR NUMBER-310966907373) occupation-MSCCRRA study from SMUDE, SYNDICATE HOUSE, MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS, NEW DELHI (SESSION-2012-14, 2ND YEAR) …. … ALSO READ MY BLOG-http :/ / mantusatyam.blogspot.com/2013/08 / ……. BELOW THE BLOGG/JOURNAL WANT TO PUBLISH ……….. BLOG DETAIL-concerned, political, economical and social in reference INDIA, HINDU RELIGION caste system social structure, caste power (DABANG), business (INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system, caste power (DABANG), development or advancement or business (INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste / INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power (DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very – very small role or huge difference COMPARISON than LAW and MBBS / MD / MS HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development, POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer MBBS / MD / MS the casts benefit of 10% of sufficient number. SUFFICIENT NUMBER LAWYER WITH MBBS / MD / MS OF HINDU RELIGION OF INDIVIDUAL CASTES FACE / SOLVE ALL ARISE POLITICAL PROBLEM OF DEVELOPMENT. . Its important in other word say it, IN INDIA, HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN, BHUMIHAR, RAJPUT, KAYASTH, KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business, govt tender, land owner etc. Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and MBBS / MD / MS degree of individual general castes, HINDU RELIGION, INDIA for the maintain of caste power, advancement / development like huge scale of business, land owner and govt tender. Without sufficient no.of LAWYER and MBBS / MD / MS degree HINDU RELIGION, general caste / and other huge scale of business, INDIA (due to same of complicated HINDU RELIGION, CASTE social structure in INDIA) have many factors / issue arises of huge scale business, huge scale LAND OWNER, GOVT. TENDER etcIts have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION, INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and MBBS / MD / MS In some cases it have to seen. Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree In under of the self / own HINDU religion (minority CASTES), INDIA of complicated caste structure face very-very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers. Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three) rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario LOW POPULATION caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS degree more development like power business complicated caste social structure rather then SC / ST join the profession politicians and officers in long to long time / year in same conditions.Also they caste have sufficient number lawyer acquire good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then SC and ST. It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of LLB / LLM. Also KURMI caste in BIHAR / JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S / MD /M.S NOTE-In the point of view LLB / LLM and MBBS / MD / MS not meaning of only court and medicine practice (ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective / efficient due to key point / key master of caste power, business, land owner, govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS, by which caste persons LAWYER and MBBS / MD / MS degree or professionals occupied have not done self / own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business (INDUSTRY) NOTE-In the point of view B.TECH / M.TECH and MBA have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion, INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand, complicated issue from powerful castes etcBut it have not problem of HINDU RELIGION more population caste in INDIA …….

के द्वारा:

BLOGG/JOURNAL- IN INDIA, HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES ,O.B.C WEAKER SECTIONS ,S.C/S.T DEVELOPMENT ,BUSSINESS , INDUSTRY,TENDER VERY -VERY BIG ROLE OF POVERTY SOLUTION JOIN SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND MBBS / MD / MS DEGREE / PROFFESION ........BY-MANTU KUMAR SATYAM,, Religion-Hindu, Category-OBC (Weaker section), caste-Sundi (OBC weaker section), SEX-MALE, AGE-29Y Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING / HARDWARE, AIRCEL MOBILE TOWER BUILDING, CHOICE EMPORIUM SHOP BUILDING, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir, castair town, SARWAN / SARATH MAIN ROAD,, DEOGHAR, DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112, INDIA.MY VOTER ID CARD DETAIL-CONSTITUTION DEOGHAR ASSEMBELY, DIST-DEOGHAR, JHARKHAND, INDIA, VOTER ID CARD NUMBER-MQS5572490, AADHAR CARD ENROLLMENT NUMBER-2017/60236/00184, DATE-10/12/2012, TIME-13: 43: 52, AADHAAR NUMBER-310966907373) occupation-MSCCRRA study from SMUDE, SYNDICATE HOUSE, MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS, NEW DELHI (SESSION-2012-14, 2ND YEAR) .... ... ALSO READ MY BLOG-http :/ / mantusatyam.blogspot.com/2013/08 / ....... BELOW THE BLOGG/JOURNAL WANT TO PUBLISH ........... BLOG DETAIL-concerned, political, economical and social in reference INDIA, HINDU RELIGION caste system social structure, caste power (DABANG), business (INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system, caste power (DABANG), development or advancement or business (INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste / INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power (DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and MBBS / MD / MS HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development, POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer MBBS / MD / MS the casts benefit of 10% of sufficient number. SUFFICIENT NUMBER LAWYER WITH MBBS / MD / MS OF HINDU RELIGION OF INDIVIDUAL CASTES FACE / SOLVE ALL ARISE POLITICAL PROBLEM OF DEVELOPMENT. . Its important in other word say it, IN INDIA, HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN, BHUMIHAR, RAJPUT, KAYASTH, KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business, govt tender, land owner etc. Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and MBBS / MD / MS degree of individual general castes, HINDU RELIGION, INDIA for the maintain of caste power, advancement / development like huge scale of business, land owner and govt tender. Without sufficient no.of LAWYER and MBBS / MD / MS degree HINDU RELIGION, general caste / and other huge scale of business, INDIA (due to same of complicated HINDU RELIGION, CASTE social structure in INDIA) have many factors / issue arises of huge scale business, huge scale LAND OWNER, GOVT. TENDER etcIts have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION, INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and MBBS / MD / MS In some cases it have to seen. Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree In under of the self / own HINDU religion (minority CASTES), INDIA of complicated caste structure face very-very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers. Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three) rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario LOW POPULATION caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS degree more development like power business complicated caste social structure rather then SC / ST join the profession politicians and officers in long to long time / year in same conditions.Also they caste have sufficient number lawyer acquire good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then SC and ST. It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of LLB / LLM. Also KURMI caste in BIHAR / JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S / MD /M.S NOTE-In the point of view LLB / LLM and MBBS / MD / MS not meaning of only court and medicine practice (ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective / efficient due to key point / key master of caste power, business, land owner, govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS, by which caste persons LAWYER and MBBS / MD / MS degree or professionals occupied have not done self / own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business (INDUSTRY) NOTE-In the point of view B.TECH / M.TECH and MBA have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion, INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand, complicated issue from powerful castes etcBut it have not problem of HINDU RELIGION more population caste in INDIA .......

के द्वारा:

BLOGG/JOURNAL- IN INDIA, HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES ,O.B.C WEAKER SECTIONS ,S.C/S.T DEVELOPMENT ,BUSSINESS , INDUSTRY,TENDER VERY -VERY BIG ROLE OF POVERTY SOLUTION JOIN SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND MBBS / MD / MS DEGREE / PROFFESION ........ ... ALSO READ MY BLOG-http :/ / mantusatyam.blogspot.com/2013/08 / ....... BELOW THE BLOGG/JOURNAL WANT TO PUBLISH ........... BLOG DETAIL-concerned, political, economical and social in reference INDIA, HINDU RELIGION caste system social structure, caste power (DABANG), business (INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system, caste power (DABANG), development or advancement or business (INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste / INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power (DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and MBBS / MD / MS HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development, POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer MBBS / MD / MS the casts benefit of 10% of sufficient number. SUFFICIENT NUMBER LAWYER WITH MBBS / MD / MS OF HINDU RELIGION OF INDIVIDUAL CASTES FACE / SOLVE ALL ARISE POLITICAL PROBLEM OF DEVELOPMENT. . Its important in other word say it, IN INDIA, HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN, BHUMIHAR, RAJPUT, KAYASTH, KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business, govt tender, land owner etc. Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and MBBS / MD / MS degree of individual general castes, HINDU RELIGION, INDIA for the maintain of caste power, advancement / development like huge scale of business, land owner and govt tender. Without sufficient no.of LAWYER and MBBS / MD / MS degree HINDU RELIGION, general caste / and other huge scale of business, INDIA (due to same of complicated HINDU RELIGION, CASTE social structure in INDIA) have many factors / issue arises of huge scale business, huge scale LAND OWNER, GOVT. TENDER etcIts have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION, INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and MBBS / MD / MS In some cases it have to seen. Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of LLB / LLM and MBBS / MD / MS degree In under of the self / own HINDU religion (minority CASTES), INDIA of complicated caste structure face very-very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers. Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three) rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario LOW POPULATION caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS degree more development like power business complicated caste social structure rather then SC / ST join the profession politicians and officers in long to long time / year in same conditions.Also they caste have sufficient number lawyer acquire good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then SC and ST. It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of LLB / LLM. Also KURMI caste in BIHAR / JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S / MD /M.S NOTE-In the point of view LLB / LLM and MBBS / MD / MS not meaning of only court and medicine practice (ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective / efficient due to key point / key master of caste power, business, land owner, govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and MBBS / MD / MS, by which caste persons LAWYER and MBBS / MD / MS degree or professionals occupied have not done self / own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business (INDUSTRY) NOTE-In the point of view B.TECH / M.TECH and MBA have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion, INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand, complicated issue from powerful castes etcBut it have not problem of HINDU RELIGION more population caste in INDIA .......

के द्वारा:

जनता को सिर्फ बदलाव नहीं सुधार चाहिए..हालांकि मैं आप की राजनीति से इत्तिफाक नहीं रखती लेकिन आप ने 'बदलाव' की जगह 'सुधार' की धारा को समसामयिक राजनीति में सामने लाया है और इसका पूरा श्रेय उसे मिलना चाहिए. जो काम बीजेपी और कांग्रेस एड़ी-चोटी एक कर इतने सालों से करने की कोशिश करती रही, आप का इतने से वक्त में कर दिखाना एक प्रकार से पल भर में ही उन कोशिशों को पूरा करना है.. राष्ट्रीय राजनीति में भले ही आप सरकार न बना पाए, देश की मुख्य धारा की इन दो बड़ी पार्टियों को सबक जरूर सिखा सकती है. एक प्रकार से यह 'आप' की जीत से ज्यादा जनता का संदेश है राष्ट्रीय राजनीति के लिए कि उन्हें 'केवल बदलाव नहीं, सुधारात्मक बदलाव' चाहिए...

के द्वारा: Shipra Parashar Shipra Parashar

पांडेजी, आपके विचार पढकर बडा खेद हुआ. समलिंगी होना कोई पाप नहीं है. वे भी सभी कि तरह महसूस करते है, प्यार करते है और समाज को कोई बाधा भी नहीं पहुंचाते. दो बालिग व्यक्ति अपने घर के अंदर अपने प्यार का किसी भी तरह इजहार करें इससे आपको क्या बाधा आ सकती है? वे किसीभी जाती, धर्म, भाषा, प्रदेश, लिंग के हो, उनके प्यार के संबंधोसे आपकी क्या शारीरिक, आर्थिक, सामाजिक हानि हो रही है? हाँ, अगर आपकी मानसीक हानि हो रही है क्योंकि आपको समलिंगी पसंद नहीं, तो आपकी इस पीड़ा की कोई पर्वाह नहीं करता. आप कहते हैं की समलैंगिकता प्रकृति के खिलाफ है, तो फिर क्यों जानवरोंमें भी समलैंगिकता पाई जाती है. आप कहते हैं समलैंगिकता पश्चिमी सभ्यता की देन है, तो फिर क्यों कामसूत्रमें भी समलिंगी संबंधोकी खुलके चर्चा और वर्णन किया गया है? क्यों खजुराहो की कामशिल्पोंमे समलिंगी और उभयलिंगी जोड़े दिखाए गए है? आप कहते हैं की समलैंगिकता एक मानसिक बीमारी है, मैं कहता हूँ, आपको एक गंभीर मानसीक बीमारी हुई है- तिरस्कार और घृणा की. बिना किसी वैज्ञानिक ज्ञान के आप हास्यास्पद विधान लिखते जा रहे हैं. क्या आपको पता नही समलिंगी होना हमारे DNA कि कुंडली मे लिखा होता है? क्या आपको पता नही, के लाख कोशिशोंके बावजूद किसी समलिंगी को भिन्नलिंगी और भिन्नलिंगी को समलिंगी बनाया नहीं जा सकता? क्या आप नहीं जानते के कल आपकी बेटी या बेटा भी समलिंगी होनेकी खबर आपको दे सकता है? या आप ये सब बाते जानते हुए भी लोगोंको आपके ब्लॉगपोस्ट की जरिये गुमराह करना चाहते है? समाजमें विभिन्न भेंदोंके आधारपर दुश्मनी फैलाना चाहते है, जैसे की जाती, धर्म, भाषा, प्रदेश और लैंगिकता के आधारपर दुश्मनी? खैर छोड़िये, अपने लेखनसे समाज में प्यार और भाईचारा बढ़ाना चाहिए. आप ठीक उसी तरह समलिंगीयोंको सजा देने की बात कर रहे है, जैसे हिटलर यहुदियोंको, तालिबान महिलाओं और अन्य धर्मियोंको, और राज ठाकरे उत्तर भारतीयोंको. इसे नाज़ीवाद या फैसिजम कहते है. मुझे आपसे कोई व्यक्तिगत शत्रुता नहीं, लेकिन आपके इन बंद डिब्बीमें कैद विचारोंसे है. आजतक समाजने महिलाओं, गुलामों, काले लोगों, दलितों , अपनेसे भिन्न धर्म के लोगों और समलिंगीयोंपरभी बहोत अत्याचार किये हैं. महिलाओंको हमने सती बना के जलाया है, ८-१० की आयु में उन्हें वधु बनाकर बलात्कार किये है. लेकिन विश्व का और भारतवर्ष का भाग्य भी मंगल था की हमें राजा राममोहन रॉय, महात्मा फुले, सावित्रीबाई फुले, आगरकर, छत्रपति शाहू, पेरियार स्वामी, डॉ. आम्बेडकर जैसे समाजसुधारक मिले. जिन्होंने खुले विचारोंसे एक नये आधुनिक भारतीय समाज की नीव रची. स्वतंत्रताके बाद हम इन विचारों और आदर्शोंको भूल तो गए है, लेकिन हमारी खुद की बुद्धिभी नहीं इस्तेमाल क्र रहे की खुले विचारोंसे मेलजोल से रह कर विश्व को एक रहने लायक जगह बना सके. सत्यमेव जयते!!

के द्वारा:

में भी मानता हु भारतीय संस्कृति की महानता को | अमेरिका कोई अपनी संस्कृति का प्रचार नहीं करता ,ढोल तो हम पिटते है..दुनिया जानती है अंध विश्वास में हम आज भी इलाज नहीं करते..और पूजन करते है..बागवान को क्यों किसी का बैर..अमेरिका की नीतिया गलत है .वो अरब देशो को इस लिए निशाना बना रहा है क्योकि उसे तेल चाहिए ,,,तभी देश बढेगा...आज विकास के लिए उर्जा जरूरी है |आप क्या अनाप सनाप बक रहे है..फालतू ही भर्मित कर रहे है ..आप कह रहे है की प्रसिदी के लिए लोग महापुरुषों की निंदा करते है | भगत सिंह की तो कोई नहीं करता..न शाश्त्री जी की ..गुनाह गर है तभी तो बात आई है |हा मानता हु कुछ लोग इससे अपना स्वार्थ साध रहे है ..अपना देश क्या महान है ..क्या संस्कृति की बात करते है |उनकी अपनी संस्कृति है.दुनिया चाँद पे रहना सिख रही है और भारत आज भी लचर है ..क्योकि हमारे नेता ये नहीं जानते की भविष्य में कैसा समय आएगा |बस अपना मतलब ..|दोल मत पितो महानता का...देश किओ महान बनाने में जुटो|क्यों हम आज विश्व-शक्ति नहीं है |बहार की दुनिया आज भी हमे तीसरी दुनिया के लोग कहते है |में ये नहीं कहता की उनकी संस्कृति अपनावो ..बल्कि अपनी संस्कृति को महान बनाओ...देश को महान कहो मत ..बनाओ..

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: rkpandey rkpandey

नमस्कार , आपका हिंदी लिखने में जो साफ्टवेयर है वह बेवजह का बाधक है . ..मैं जागरण में ब्लाग देखकर आश्चर्य में डूबा हूँ . क्या जागरण अपने नौकरों को इतना मौका दे देता है की वे ब्लाग के बारे में सोच पायें ? किस लेवल के लोग ब्लाग लिखते हैं ? जागरण में कितने प्रतिभाशाली लोग हैं यह अन्दर जाकर बारीकी से देखा . सिर्फ हिंदी मात्रा चेक करने वाले, पेज बनाने वाले यानि आपरेटर या पेजिनेतर ही संपादक हैं जिनको यह नहीं मालूम की मुख्या न्यायाधीस राज्यों में भी होता है या सिर्फ देश में . जो लोग लीड खबर में हेडिंग लगाते है राष्ट्रपति भवन में अर्थ पावर मनाया गया ,उनको पावर और आवर का फर्क नहीं मालूम यदि मैंने निवेदन किया तो हर कदम पर आपका विरोध... चलिए बाते बहुत है . भाड़ में जाये यह अख़बार .. आपके ब्लाग के प्रति शुभकामनाये ..

के द्वारा:

bharat ki dharti se aatankiyon ka prem. aaj pure vishwa men jansankhya vriddhi ke sath sath berojgari bhi bar gai hai. kisi bhi sarkar ke paas berojgari se purntaya chhutkara dilane ka koi upay nahi hai.samaj men aarthik dristhikon se asantulan bhi bahut hai.saman yogyata wale ko jise sarkari noukari mil gai hai uska khan pan rahan sahan aur jo bekar hai uske rahan sahan khan pan men dharti aasman ka antar ho jata hai.jis se bekar logon ke man irshya paida ho jata hai.apne aap men glani hoti hai. phir uska man samaj ke prati sarkar ke prati vidroh karne lagta hai.samaj men aarthik sampannta pane ke liye uske man men kuvichar paida hone lagta hai.dhire dhire uske kadam galat raste pe chalne lagte hain.kuchh log achhe sanskaron our achhe aachran men pale barhe hone ke karan bhrastachar ki or barne lagte hain.dhire dhire ek se barh kar ek kam bhrasthachar ke jariye hone lagta hai.ye shurati dour ka ghus len den aage chal kar laakhon karoron me pahuch jata hai. kuchh aise bhi desh hain jo bekhari to khatam nahi kar sakte hain lekin use aatankvadi ban kar bekaron ki bekari aur apni sarkar ki chhabi apni janta ke samne nikharne ki galat koshis karte hain. use kya malum ki vo apne liye bhasmasur ki toli bana rahe hain.fir us aatankwad rupi rakshas ko hamare des men utpat machane nirdos longo ka khun kharaba karne pure des men kanhin na kanhi pahunch hin jaate hain.kuch log to use dar ke mare panah de dete hain aur kuchh log kuchh lalach men bhi aisaa karte hain.phir apani sarkar ki lachar kanun ke chalte bhi uska manobal bhar jata hain.pata nahi kyon aatankvadi pahle to pakre hin nahin jate hain aur agar kabhi pakre jate hain to uske khan pan rahan sahan par purane jamano ke raja mahraja jaisa bartab hota hai. ya phir aaj kal ke rajnyikon ke jaisa uske sukh subidha ka bishes khyal rakhkha jata hai.ek ek aatankvadi par jitana kharcha hota hai utane laagat se ek ek kharkhana khola ja sakta hai jismen hajaron hajar log kam kar apni stithi sudhar sakte hain aur sarkar ki bhi janta ke prati jababdehi puri ho sake.lekin pata nahin kyon hamari sarkar men itne vidwan longo ke rahte hue bhi apni janta jo unhen is pad par pahunchati hai us se jyada prem aatankvadi se ho jata hai.lagta hai ye aatankvadiyon ka sobhyagy hai ya ham bhartiyon ka durbhyagya. agar ye mera durbhyagy hin hai to kab tak is se mukti milegi iske liye ham sabhi bhartiy mil kar sarv dharm sammelan kar bhagwan se khuda se guru govind se aur god se prarthana karen.

के द्वारा:

पाण्डेय जी.. बहुत अच्छा लगा पढ़कर की आप 'सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की स्थापना' जैसे चीजों पर बात कर रहे हैं. संस्कृतिवाद होना अच्छा है लेकिन आप वास्तव में 'रूढ़ीवाद' और घोर परम्परावाद टाइप की बातें करके इसे संस्कृतिवाद का नाम दे रहे हैं. समलैंगिकता एक सच है जिसे आप घृणित , विकृत वेगरेह कहकर झुठला नहीं सकते. "एक बेहद अनुशासित समाज बनाना होगा जहॉ पर आचरण की शुचिता, पवित्रता, नैतिक मर्यादा की प्रतिष्ठा की रक्षा की जा सके. व्यभिचारी समलैंगिकों के प्रति पूर्ण तिरस्कार भाव के सृजन से जरूर भारत राष्ट्र अपने सर्वोच्च लक्ष्य यानि सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के निर्माण में सफल हो सकेगा." आपकी यह पंक्ति पढ़कर कर लगता है आप किसी विद्यापीठ में ब्रह्मचर्य बनने की शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं. बस इतना कहना है की किसी angle के पीछे के सच को समझिये. एकतरफा लिखने से ज्यादा बेहतर है की उस बिंदु को विश्लेषित कीजिये. शुचिता, पवित्रता, नैतिकता को थोड़े देर बगल में रखकर इस एंगल को विज्ञानं के नजरिये से भी देखें. धन्यवाद. नरोत्तम गिरी

के द्वारा:

के द्वारा:

स्नेही श्री पाण्डेय जी, एक बार फिर आपने अन्ना और बाबा रामदेव के मामले में आंकलन करने वाले बुद्धिजीवियों के लिए विचार करने को एक सही दिशा प्रदान की है. मेरा भी मानना है कि रास्ता चाहे अन्ना का हो या बाबा रामदेव का महत्वपूर्ण ये है कि उनका लक्ष्य क्या है, और ये सर्व-विदित है कि दोनों मार्ग राष्ट्र को भ्रष्टाचार से मुक्त करके भारत-भूमि को गौरवशाली लोकतंत्र बनाने की दिशा में जाते हैं. ऐसे में हमें क्या करना चाहियेए इस बिंदु पर आपकी राय बिलकुल सही है अभी ये बानगी है हमें स्वयं कर्मण्य हो कर इस मुहिम को आगे बढ़ाना होगा चाहे अन्ना के साथ चाहे बाबा रामदेव के साथ या फिर किसी और तरीके से.  एक और राष्ट्रवादी पोस्ट पर हार्दिक बधाई!

के द्वारा: chaatak chaatak

अधूरे लोकतंत्र को जनता नहीं समझ सकी .. न ही आजादी के बाद नेताओं ने जनता को इसका महत्व समझाया .. उसे बस रोटी कपडा मकान तक ही सीमित रखा गया और मजबूर कर दिया गया जबरदस्ती हर 5 साल में लोकतंत्र का खेल खेलने को .. परिणाम अक्षम जनता में राजनीती के प्रति एक ऐसी अरुचि उत्पन्न हुई जिसने इन सताधिशो को निरंकुश बना दिया .. बहुत हुआ तो हमने चौराहे पर खड़े होकर नेताओं को गालिया दे ली , आजादी को अंग्रेजी शाशन से भी बुरा बता दिया ,,, और फिर घर जाकर सो गए.. जनता की विश्लेषण क्षमता और व्यापक दृष्टिकोण के अभाव ने ..राजनीती शब्द का ही विरोधी बना दिया .. इसका दुष्परिणाम ये है की आज अगर कोई भी सज्जन व्यक्ति या युवा राजनीती में आना चाहे तो उसे कहा जाता है की जो आपका काम है वो ही करे राजनीती न करे.. ये हमारी मानसिकता बन गई है जब हम निठल्लो की तरह बैठे रहकर तमाशा देख कर संतुष्ट है तो कम से कम किसी और को प्रयोग करने में क्या जाता है .. ? महत्वपूर्ण ये है की रामदेव और अन्ना के अनशनो ने राष्ट्र में एक लहर उठाई है .. मै 3 से लगातार इन सभाओं में जा रहा हु और देख रहा हु की आमजन की सहभागिता बहुत बेहतर हुई है और यकीं मने ये भीड़ किसी लालच देकर बुलाई नहीं गई है .. ये रामदेव और अन्ना के लिए नहीं आये है बल्कि ये एक आस लेकर आये है की देश को भ्रष्टाचार से मुक्ति मिलेगी ..और महत्वपूर्ण ये है की इन्हें ये अहसास हो रहा है की ये मुक्ति अन्ना और रामदेव नहीं दिलाएंगे बल्कि हम आम लोगो की सक्रियता दिलाएगी.. महत्वपूर्ण है उद्देश्य और मेरा ये मत है की अगर अन्ना हजारे बाबा रामदेव , गोविन्दाचार्य , अरविन्द केजरीवाल की राजनितिक महत्वाकांक्षाये है तो क्या बुराई है .. वे राजनीती करे जनजागरण तो हो ही रहा है .. हमें पता चल गया है की आज भी सत्याग्रह में शक्ति है अगर वे भी भ्रष्ट होते है तो जिस तरह वे कांग्रेस के खिलाफ संघर्ष कर रहे है वैसे ही उन्हें जनता का आक्रोश झेलना पड़ेगा .. येतो लोकतंत्र के हित में ही है ... बढ़िया लेख है इसपर और चर्चा होनी चाहिए

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

अन्ना हजारे के आन्दोलन को दुसरे नजरिए से भी देखने की आवश्यकता है,यह बात तो बिलकुल सही है कि जन लोकपाल बिल बहुत जरुरी है लेकिन जिस तरह कारपोरेट मीडिया और पुजीपतियो से अनुदान पाने वाले संघटनो ने एकाएक सारा कम छोड़ कर मात्र भ्रष्टाचार के विरुध्ध खड़ा हो गया इसमे शांति भूषण जैसे लोग है जो कार्पोरेट धुरंधर एडवोकेट है. आखिर इस सिविल सोसाइटी के एजेंडे में भूमंदालिकर्ण,बाजारीकरण के खिलाफ कुछ क्यों नहीं है,जिसकी वजह से गरीब और गरीब तथा अमीर और अमीर होता जा रहा है आखिर यह कौन सिविल सोसाइटी है जो सर्वोच्च न्यायालय द्वारा अनाज सड़ाने बे बदले गरीबो में बटने का निर्देश देती है और सरकार घृष्टता से इंकार करती है और वह कोई सिविल सोसाइटी हस्तचेप नहीं करती इसी तरह किसानो की आत्महत्या या आदिवासियो और दलितों का विस्थापन इसके एजेंडे से बहार क्यों है? आखिर २० रुपया प्रतिदिन कमाने वाले ७०%को बहार रख कर ये कौन लोग है जो क्रांति के नाम पर एक प्रतिक्रांति का भ्रम एकाएक खड़ा करते है और उनकी अगुआई में सामाजिक न्याय तथा निजीकरण और पुजीपतियो के काले धन पर खामोश हो बाबा रामदेव के काले धन के विरुध्ध चलने वाले तूफान को हाइजैक कर लेते है. अच्चा है भ्रष्टाचार के खिलाफ माहौल बनाना चाहिए लेकिन उसमे सिविल सोसाइटी का प्रतिनिध्व्त तब तक अधुरा है जब तक ७०% लोगो के सवालो से रूबरू नहीं होती,क्योकि गरीबो के शोषण का ओउजर तो बजरिकर्ण है और अंधाधुंध मुनाफा कमाने की होड़ आखिर इस व्यवस्थागत शोषण के ओउजरो पर प्रहार किये बिना एक जन लोकपाल का एपिसोड तो चलाया जा सकता है लेकिन कोई ठोस समाधान नहीं निकलता प्रतीत होता.अभी तो यही लग रहा हैकि शहरी युवा जो महगे sansthano में शिक्चा ले रहे है या नौकरी पेशा में है उन्हें ही यह आंदोलित कर पारहा है आम आदमी का नाटो कोई प्रतिनिधित्व दिखाई दिया और नहीं उसके मुद्दे.

के द्वारा: shuklaom shuklaom

राम सर नमस्कार, आपके लेख में क्रूर प्रतिआक्रमण का तर्क जायज है. क्योंकि अब और आतंकी आक्रमण के लिए देशवासी तैयार नहीं. और ऐसा देखते और सहते रहना कायरता की निशानी मानी जाएगी.  परंतु आपने अपने लेख में यह भी स्वीकार किया कि भारत की कमजोर विदेश नीति और राजनीतिक इच्छाशक्ति पर हावी है भ्रष्टाचार. भारतीय वायु सेना का पायलट जब राष्ट्र सेवा छोड़कर राजनीतिक सेवा में आता है तो राष्ट्रमंडल घोटाला हो जाता है.  इन हालातों में क्या हमारे देश के नेता और उनके बच्चे सीमा पर युद्ध लड़ने को तैयार हैं? अगर नहीं तो दिल्ली में बैठ कर देश को युद्ध के लिए ललकारने जैसे पवित्र कार्य के लायक वह नहीं हैं. तो ऐसे में बेहतर है कि जनता को अभी और आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक रूप से तैयार होने दें, ताकि जब वह चाहें तभी क्रूर प्रतिआक्रमण की बात मानने को हमारे राजनेता बाधित हों.

के द्वारा:

के द्वारा: chaatak chaatak

मानवाधिकार मानव का मौलिक अधिकार होता है दानव का नहीं आतंकबादी तो मानव के श्रेणी में आते ही नहीं है फिर उनको इस श्रेणी का कोई अधिकार प्राप्त होना ही नहीं चाहिए और अगर होता है तो इअका नाम दानवाधिकार होना चाहिए क्योकि आतंकी हमलो में हर प्रकार के निर्दोष और यहाँ तक की स्त्री और उसके साथ साथ उसके गर्वे में पल रहे भ्रूण तक की हत्या कर दी जाती है उस भ्रूण का क्या अपराध होता है उसे तो ए भी नहीं पता की उसे कौन मार रहा है और इअका कारन निहित स्वार्थ की राजनीत है जो राज नेताओ का जीवन क्षेत्र अपने से अपनों तक ही सिमित कर दिया है अन्ताक्बाद कोई बाद नहीं सिर्फ जीवन का द्रोह है और जीवन द्रोह को जीवन जीने का कोई हक़ नहीं और अगर ऐसा नहीं है तो जलिअवाला बाग़ हत्याकांड को भी हमे भूल जाना चाहिए

के द्वारा:

स्नेही श्री पाण्डेय जी, बिलकुल सही कहा आपने की ये अवसर मुश्किल से हाथ में आया है और एक बार हमने इसे गवां दिया तो फिर कब पुनरावृत्ति होगी इसका कोई अंदाजा नहीं| कांग्रेस में जिस तरह दो बड़े और कद्दावर नेता (मजबूर प्रधानमंत्री डा.मनमोहन सिंह और बैसाखे *&%^ दिग्विजय सिंह) इस मुहीम पर लगातार अपनी राय दे रहे हैं उससे साबित होता है की राजनीतिक दल अब पूरी तरह से खोखले और चरित्रहीन हो चुके हैं| प्रधानमंत्री दहनी बट रहा है तो मंत्रीगण बाईं| ऐसे में जनता के हाथ कुछ भी नहीं आएगा हम जरा सा भी विचलित हुए आखिर अन्ना हमारे लिए हमारी लड़ाई कब तक लड़ेंगे| एक जागृत करने वाली पोस्ट के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद!

के द्वारा: chaatak chaatak

पाण्डेय जी , ये केवल सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए किया गया घटिया मानसिकता का प्रयास है .. ऐसे प्रयास होते रहे है काफी समय से.. गाँधी जी पर आप कुछ भी कहे ..आपको कुछ दिन तो सुर्खिया मिलनी तय ही है .. उसी चाहत में अमेरिकी लेखक अपनी दुर्भावनाए उड़ेल रहा है ... जब हमारे ही देश में गाँधी पर तमाम तरह के आरोप लगाने वाले लोग दांत फैलाते हुए अनाप शनाप कुछ भी बोलते रहते है तो पूंजी वाद और नस्लवाद का समर्थक उनकी आरती तो नहीं ही गायेगा ..... आप अपने देश में ही देख ले ,,,,,,जो गाँधी को नहीं जानते वे उनके बारे में गलत चीजे ज्यादा बोलते है पर जो उन्हें जानते है वे भी उनके बारे में उलटी सीधी बाते फैलाते है और मिडिया की सुर्खियों में रहते है .... इधर जिस तरह से पश्चिमी भौतिक भूख को हमारे देश में कानून से और हमारी उच्च और बौधिक वर्ग से जो स्वीकृति मिली है उसे उन लोगो को मौका मिल गया है जो हमें पूरी तरह अपने जैसा बना देने .पर उतारू है . और इसके लिए वे हमारे महापुरुषों के चरित्र को ऐसा सनसनीखेज और अपनी इच्छा के अनुरूप बनाकर प्रस्तुत कर रहे है.....जैसे की उनके देश के लोग रहे जिनके नित नए स्कैंडल रोज सुर्खियों में रहते है वैसे ही हमारे देश के महापुरुषों के साथ समानता दिखने के लिए कर रहे है.. और चुकी उनके ऐसे नवीन शोधो में हम भी अपनी बौद्धिकता आंकते है (क्योकि हम समझते है की पश्चिमी लेखक है तो सही ही लिखेगा ).. तो फिर धीरे धीरे हम अपने देश की महान आत्माओं के साथ ऐसे प्रयोग होने देने के लिए खुद ही आत्म समर्पण कर रहे है .. दोषी हमारी मानसिकता भी है .

के द्वारा:

श्री पाण्डेय जी, अमरीकियों की अनैतिकता के बारे में पूरी दुनिया जानती है लेकिन दुर्भाग्यवश सभी उसकी इस अनैतिकता को ही नैतिकता समझकर उसी का अन्धानुकरण कर रहे हैं| अमरीकी समाज सिर्फ और सिर्फ सेक्स, डालर और सामरिक शक्ति को समझता है और इन्ही तीन चीजों के पीछे अंधे होकर भागना अमरीकी संस्कृति का मूल है| आज वह आसानी से गांधीजी को व्यभिचारी सिद्ध कर सकता है क्योंकि विश्व भर के घटिया बौधिक समूह उसकी हाँ में हाँ मिलाने और उसी की बात को पत्थर की लकीर मानने में ही अपनी शान समझते हैं| अपनी मूल संस्कृति को बचाए रखने में अग्रणी मुसलमान उसके पहले शिकार हैं क्योंकि वे खुले आम व्यभिचार की खिलाफत करते हैं और दुसरे रोड़े हैं हम भारतीय जिनकी संस्कृति और महापुरुषों की गलत छवि प्रस्तुत करके ही वह हमारी जड़ों में मट्ठा डाल पायेगा| भारतीय जनमानस को अमरीका की कुत्सित चालों के प्रति आगाह करने के लिए आप बधाई के पात्र हैं| मैं न्यूयॉर्क टाइम्स के पूर्व कार्यकारी संपादक लेखक जोसेफ लेलिवेल्ड की कड़े शब्दों में निंदा करता हूँ| वन्देमातरम !

के द्वारा: chaatak chaatak

प्रिय महोदय नमस्कार आप लोगो के लेख पदने से ऐसा लगता है की आप देश के हित में वहुत गंभीर चिनंतन करते है | अच्छा है | इस के लिए धन्यवाद | में भी आप से एक निवेदन कर रहा हु ,वास्तव में आप सिर्फ लेख ही नही लिखना चाहते है , कुछ करना चाहते है तो मेरी बात पर ध्यान दे | मेरे पास एक आईडिया है जिससे देश में एक ऐसा परिवर्तन जिसके बारे अभी तक किसी ने सोचा न होगा | यदि देश की मुद्रा को बंद करके उसकी जगह बैंक द्वारा लेन देन किया जाये तो ऐसा परिवर्तन होगा की जो लाखो वर्ष के इतिहास में नही हुआ होगा | इस विषय पर मेने १००% प्रोजेक्ट बना लिया है ,जिसमे किसी भी शिकायते ,कमिया नही है | में उन लोगो से सहयोग चाहता हु जो देश प्रधान लोगो तक मेरी बात पहुचने में मदद कर सके | विस्तार से जानने के लिए कांटेक्ट करे | फ़ोन न ०७७९३२७०४६८ ०९३००८५८२०० मदन गोपाल ब्रिजपुरिया करेली madanbrijpuria59@gmail.com

के द्वारा:

प्रिय चातक जी, बदलते वक्त की धारा पर कड़ी नजर रख किसी निर्णय पर पहुंचने वाले ही सही कार्य कर पाते हैं. आज पूरे विश्व में हर जगह महिला अधिकार और सशक्तिकरण की वकालत हो रही है. यदि सब कुछ सही ढंग से होता तो कोई हर्ज नहीं किंतु अधिकांश बस अंधानुकरण किए जा रहे हैं. स्त्री मर्यादा की रक्षा की बजाय उन्हें बाजारवाद का शिकार बनाया जाना किसे अच्छा लग सकता है. तथाकथित नव उदारवादियों और छ्द्म स्त्री समर्थकों की मंशा पर भरोसा नहीं होता इसलिए टीस उठती है. आपसे एक जाग्रत और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के समर्थक योद्धा के भूमिका की उम्मीद रहती है और आप अपनी सटीक टिप्पणियों और ब्लॉग के द्वारा इसकी पुष्टि करते हैं. प्रतिक्रिया के लिए आपका आभार.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

स्नेही श्री पाण्डेय जी, सादर अभिवादन, इस पोस्ट को पढने के बाद एक बार फिर मैं दोहराना चाहूंगा- "जागरण में मुझे अभी तक सिर्फ तीन हीरे दिखाई दिए एक आर.के.पाण्डेय, दूसरा कोमल नेगी और तीसरे हरीश भट्ट" सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक मामलों पर आपके विचारों की स्पष्टता और बेबाक दृष्टिपात आशा जगाता है कि हमारे बीचा अभी भी कुछ ऐसे विचारक-पत्रकार, चिठ्ठाकार हैं जिनकी लेखनी में सत्य को व्यक्त करने वाला ओज विद्धमान है| नारी दिवस पर आपके इन विचारों को पढ़कर कोई भी समझ सकता है कि जहाँ समाज को लोग महत्वपूर्ण मानते है और स्वयं को इसका एक हिस्सा वहां नारियां भ्रूण से लेकर प्रौढ़ तक सुरक्षति भी हैं और सम्मानित भी| अच्छी पोस्ट पर बधाई!

के द्वारा:

पाण्डे जी अभिवादन .. इस विषय पर अभी अभी एक पोस्ट आई अरुण जी की उन्होंने बहुत अच्छी कविता वीरांगना के माध्यम से भारतीय नारी के स्वरुप को रखा है ,,,,, दिवस का कांसेप्ट भी मुझे समझ में नहीं आता मुझे लगता है यही वो कारण है जिसकी वजह से हम इस दिन के पहले और इस दिन के बाद कुछ याद नहीं रहता .. सारा रोना एक ही दिन के लिए रख लेते है.. आपका विश्लेषण वास्तविक है .. आपने जिन बिन्दुओ को रखा है वो मुझे एक दम सटीक लगे... 1---जहॉ प्रगति की राह ज्यादा तेज रही वहॉ नारी की अस्मिता अधिक खतरे में पड़ी है---- यह सही है हम जिस अमेरिका की बाते करते है है आज की स्थिति नहीं पता पर आज से कुछ वर्ष पहले महिलाओं के प्रति होने वाले अत्याचारों में पहले स्थान पर था ... यही स्थिति कमोबेश हर विकसित देश में दिख रही है .. अब तो समाचारों में ही दिख रहा है की ऐसे ऐसे देश है जहा के शाशानाध्यक्ष तक अपनी रंगीन मिजाजी के कारण पूरी दुनिया में चर्चा में आ चुके है, संबंधो की अस्थिरता सबसे बड़ा कारण है जिसकी वजह से महिला सबसे ज्यादा शोषित होती है ,, भारत में महिलाओ को फिर भी एक तरह की सामाजिक सुरक्षा है.. एक आवरण है नारी शशक्तिकरण का नारा उसी पश्चिमी मनोवृत्ति की दें है जो यह चाहता है की भारत की नारी उस पश्चिमी आवरण को तोड़ कर पश्चिमी पत्रिकाओं के सामने नंगी हो जाये.. (जैसा की हमारे देश की तथाकथित प्रगतिशील महिलाये मंदिरा बेदी, मलिका शेरावत.. और बिपाशा बासु कर रही है विदेशी पत्रिकाओ के लिए )...और इस तरह भारतीय समाज को कमजोर कर दिया जाये.. ताकि आर्थिक साम्राज्यवाद को लादा जा सके... २.मामला आर्थिक से कहीं अधिक है.-----मामला सिर्फ आर्थिक नहीं है, इससे कही बढ़कर है भारत में महिलाओ को पश्चिमी मानदंडो के अनुरूप धने के लिए आर्थिक स्वतंत्रता का लालच दिया जा रहा है.. जबकि बहुत वैज्ञानिक ढंग से भारत की सामाजिक संरचना की गई थी .. अगर इसमें कोई कमी आई समय के प्रभावों से.. तो उसे दूर करने का प्रयास करना चाहिए था न की उसकी जड़ो को काट कर दूसरी संस्कृति को जोड़ने का प्रयास ... आधुनिक भौतिक विचार धरा नारी सशक्तिकरण को उसके पवित्र लक्ष्य तक नहीं पहुचने देगी.. और यकीं मानिये आँख पर पट्टी बंधकर अमेरिका की तरफ देख कर चलते रहे तो गिरना निश्चित है.. और महत्वपूर्ण बात ये है की इस तरह हम आर्थिक विकास तो कर लेंगे पर अपने देश में एक भी ल्भार्तिया संस्कृति का झंडा उठाने वाला चरित्र नहीं पैदा कर पाएंगे और इस तरह अन्य भोगी सभ्यताओ की तरह हमारा भी नाश हो जायेगा.. नारी शशक्तिकरण जरुरी है पर इस तरह ताकि दोनों पहिये एक दुसरे के साथ चल सके न की इस तरह की दोनों पहिये अपने अपने ढंग से चलने लगे.. और गाडी को अपनी और खीचने के लिए ही संघर्ष करने लगे और गाडी चलना भूल जाये.. माफ़ करे प्रतिक्रिया थोड़ी लम्बी हो गई इस विषय पर मैंने भी लिखना चाहा था पर अपने विचारो को यहाँ लिखना मुझे ज्यादा उचित लगा..

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

ये स्वघोषित धर्म के ठेकेदार ..खुद को शायद खुदा मानकर बैठे है.. ..ईशनिंदा क़ानून के नाम पर जो घटनाये होती है वो एक तरह का मानसिक दिवालियापन है.. और इससे बचने का एकमात्र उपाय यही है की उस समाज के शिक्षित लोग आगे आये.. और लोगो को जागरूक करे.. वास्तव में ये एक तरह का अस्त्र है जिसे जेहादी मानसिकता वाले अपने कुत्सित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्रयोग कर रहे है ...और इसके शिकार ..बन रहे है.. आम व्यक्ति की बात करने वाले लोग... मेरी समझ में नहीं आता की हाथ में हथियार लिए इन जल्लादों को किसने धर्म का ठेका दे दिया.. जिन्हें न धर्म की समझ है न मानवता की.... काफी दिनों बाद आपका कोई लेख पढ़ा है मैंने.. आपकी लेखन शैली तो बेजोड़ है ही.. विषय को जिस तार्किकता के साथ आप रखते है.. वह लाजवाब है...एक और बेहतरीन लेख के लिए बधाई

के द्वारा:

पांडे जी नमश्कार .. पकिस्तान में अपने विनाश के बीज तो उसके जन्म के साथ ही पड़ गए...जब उसने भारत के विरोध को लक्ष्य रख कर आत्मघाती सीमा तक कट्टरपंथ को बढ़ावा दिया ... जिसका परिणाम आज हमारे सामने है ....पकिस्तान अपने विनाश की और बढ़ रहा है पर जो बात नोट करने वाली है जैसा आपने कहा है..प्रतिरोध क्षमता बनी रहनी चाहिए . क्योकि बर्बाद होता हुआ पकिस्तान भारत के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक हो सकता है.. और इससे हमें सतर्क रहने की जरुरत है.. एक सक्षम राष्ट्र इतना खतरनाक नहीं होता जितना की बर्बाद होता हुआ राष्ट्र और वो भी ऐसा जिसका लक्ष्य ही भारत की बर्बादी हो.. . दुखद पहलु ये है की असी कट्टरपंथी पकिस्तान परस्त कुछ लोग हमारे देश में भी है .. जो लगातार इस खतरे को अनदेखा कर रहे है ......एक बेहतरीन लेख है ...

के द्वारा: sunildubey sunildubey

के द्वारा: rkpandey rkpandey

स्नेही श्री पाण्डेय जी, पाकिस्तान के अन्दर जिस तरह अल्पसंख्यकों का बर्बरतापूर्वक दमन किया जाता रहा है वह निदनीय और निहायत पाश्विक है| हमारे देश में जिस तरह की राजनैतिक कवायद चल रही है वह और भी ज्यादा शर्मनाक है| आजादी के ६० वर्ष बाद जहाँ एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र की पूरी तस्वीर धर्मनिरपेक्ष बन जानी चाहिए थी वहां देश को न सिर्फ धर्म बल्कि जातियों और उपजातियों में बाँट कर समरसता के पूरे ताने-बाने को ही छिन्न-भिन्न कर दिया गया है| सामाजिक और पारिवारिक सरोकार के मामलों में नाहक ही राजनीति टांग अड़ा रही है और इसी चक्र में न्यायपालिका को भी चक्कर कटा रही है| जिस बिंदु पर सिर्फ परिवार और समाज को सोचना चाहिए उस पर संसद बहस कर रही है और विश्व मंच पर हमारे राजनेता दुसरे देशों के भाषण बड़ी बेशर्मी से पढ़ रहे हैं| ऐसे में आपका ये लेख युवाओं को सही दिशा में सोचने का एक और मौका दे रहा है आशा है आपकी अपने उद्देश्य में सफल होंगे और हमारा मार्गदर्शन इसी तरह करते रहेंगे| अच्छे लेख पर बधाई! जय हिंद !

के द्वारा: chaatak chaatak

स्नेही श्री पाण्डेय जी, हम इन्डियन भी अजीब मिटटी के बने हैं हमें सिर्फ मसाला ही पसंद आता है और मीडिया इस नब्ज हो खूब अच्छे से पकड़ चुकी है| मीडिया को पैसा चाहिए और हमें ग्लैमर| कारगिल के शहीदों की याद के साथ भी जब तक ग्लैमर था उन्हें याद किया गया| क्रिकेट का फीवर होना कोई अपराध नहीं लेकिन राष्ट्रीय अस्मिता की जंग के साथ क्रिकेट का खुमार हमारी राष्ट्रीय भावना पर कई प्रश्न चिन्ह जरूर खड़े कर देता है| हिन्दुस्तान के हर घर में सचिन पैदा हो मेरे लिए ख़ुशी की बात होगी लेकिन मुझे इससे भी ज्यादा अच्छा लगेगा जब मेरे कुल में एक और मनोज पाण्डेय पैदा हो! अच्छी पोस्ट पर ढेरों बधाईयाँ! जय हिंद

के द्वारा: chaatak chaatak

पाण्डेय जी आपने उन दिनों की अच्छी याद दिलायी । उन दिनों कारगिल युद्ध और वल्ड कप एक साथ चल रहा था । भारत को पेप्सी आदि बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने थोक में दुआएं दी थी । ‘कमान इंडिया’ उसका स्लोगन था । भारत अपने शुरूआती मैच बुरी तरह हारा था लेकिन मेनचेस्टर में पाकिस्तान से जब भिडंत हुयी तो उनके हौसले बुलंद थे और कारगिल का बदला भारतीय टीम उनको बुरी तरह हरा कर लिया था । इलेक्ट्रानिक मीडिया सदैव अपने फायदे की ही सोचता रहता है । अधिक्तर तो सरकार को खुश कर कितना नफा नोच ले इसी फिराक में रहते हैं और केन्द्र सरकार के भोंपू बनने को तैयार रहते हैं । भारत में अगर लोकतंत्र कमजोर हुआ है तो उसकी एक वजह मीडिया में राष्ट्रवाद और भारतीयता की कमी है । पिछली यादें ताजा करने के लिये आपका आभारी हूं ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

के द्वारा:

के द्वारा:

कांग्रेस समर्थित "उमर" काश्मीर में अलगाव वादी (यानि भारत को विभाजित करने वाली शक्तिया ) शक्तियों के समर्थन से सरकार चला रहे हैं / उसका बयान संविधान के खिलाफ है / केंद्र सरकार को हस्तक्षेप करना चाहए /पर कांग्रेस तो अप्रत्यक्ष रूप से हिन्दू विरोधी है इसलिए वो तो देश में दंगा करवा कर फूट डालकर दूसरो को बदनाम कर सत्ता में कब्जा रखना चाहती है / उसका प्रत्यक्ष समर्थन "उमर "के साथ है / कांग्रेस का हिन्दू आतंकवाद और भगवा आतंकवाद शब्द अब अपना असर दिखा रहा है / कांग्रेस यही चाहती है, की दंगा हो , मुस्लिम हिंदूओ से अलग हो / यही कुछ किया जा रहा है / कांग्रेस की कुर्सी खतरे में है / देश में दंगा करवाने और विपक्ष को जेल में बंद करने की साजिस होती दिखाई दे रही है / शायद इंदिरा के इतिहास को दुहराया जाएगा / ( एन ० के ० ठाकुर )

के द्वारा: shivnk shivnk

शर्मा जी व् पाण्डेय जी ! प्रणाम ! मैं किसी भी राज-अनैतिक पार्टी को इस योग्य नहीं देख पा रहा हूँ जो मेरी नज़र में इस मसले को हल कर सके | न ही मैं किसी राज-अनैतिक पार्टी में आस्था रखता हूँ | व्यक्ति के तौर पर भले ही इनमें कुछ लोग मुझे अच्छे लगे लेकिन पार्टी में उनके होने से उनकी भी दुर्दशा होती हुई देखी है | जब 5 साल, 13 महीने और 13 दिन देश का शाषण संभालने के बाबजूद भी इस मसले का कोई हल नहीं निकाल सके तो लाल चौक पर तिरंगा लहरा कर क्या हासिल करना चाहते हैं? ये कोई बहादुरी नहीं बलके बचकाना हरकत है जो उनके विचार में वोट बटोरने का जरिया बनेगा | मगर ये सोच के दिवालियेपन की भी निशानी है | केंद्रीय सुरख्षा बलों की मुश्किलें बढ़ानी है और जब इसका नतीजा सामने आयेगा तो वोटों की भी देनी कुबानी है | अभी तो आप नहीं मानेंगे बाद में जरूर हम आपसे निवेदन करेंगे की बताइए क्या पाया क्या खोया ? इस चर्चा में मेरी बात सुनने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया | प्रीतम |

के द्वारा:

:) आदरनीय मिश्रा जी व् पाण्डेय जी ! प्रणाम ! आप का जोश देख कर यानी पढ़ कर मुझे बहुत ख़ुशी हुई | मैं वहां काफी अरसा रह कर आया हूँ | हजारों साल पहले की तो दूर अभी कुछ सदियाँ पहले ही वो वैदिक भाई थे | बलके अफगानिस्तान तक वैदिक (बुध को भी मैं वैदिक ही मानता हूँ) ही थे | लेकिन फिर क्या हुआ और वोह क्या हो गए उसको अब पलटा नहीं जा सकता | पाक की ही बात ले लीजिये | उसके बनने के एक साल के बाद ही जिन्नाह जी ने ये कहना शुरू कर दिया था के पाक बना कर मैं ने बहुत बड़ी गलती कर डाली | इस पर उनके ही एक वज़ीर ने धीरे से चुटकी ली थी "अब आयी बूढ़े को अक्ल "| जिस गौरी की फौजों ने पूर्वज महिलाओं से Rape करके इनको क्या से क्या बना डाला उसी के नाम पर गौरी मिसाईल भारत को मारने के लिए बना डाली | बच्चों को स्कूलों में आजादी से पहले का इतिहास तक नहीं पढ़ाया जाता ताकि उन्हें ये पता न चले की वोह वैदिक धमाव्लाम्बियों की संतानों से तालुक रखते हैं | रहा कश्मीर का सवाल , जब तक पकिस्तान नहीं बना था तब तक इन्हें किस भूख मरी की ज़िन्दगी जीनी पद रही थी ? इन्हें आज़ादी के बारे में सोचने का तो ख्याल ही नहीं था | जैसे ही पकिस्तान बना इनको आजादी की घुट्टी पिला दी गयी | तो अब सोचिये, मसले की जड़ कौन है ? इन्तजार कीजिये पाक ख़तम होगा तो कश्मीरियों को घुट्टी मिलने भी बंद होगी और भारत से जो बेहिसाब माले मुफ्त मिल रहा है वो भी | जमीन तो उनको कभी मिल ही नहीं सकती | हम अपनी सेना पीछे नहीं और आगे बढ़ाएंगे | लेकिन इनको न तो भारत में न पाक और न घर न घाट मिलना चाहिए | यही हश्र होना चाहिए इनका जो पाक को बाप मानते हैं, जब बाप मरेगा तो कहाँ जायेंगे ? इसलिए ताक़त का जोर उधर को लगाना चाहिए जिसके हाथ में मोहरे बने हैं | मोहरे को छोड़ो हाथ को काटो ताकि कभी मोहरा पकड़ने काबिल ही न रहे | लेकिन मुश्किल है कि अगर सुरख्षा एजेंसियां कुछ करना भी चाहें तो राजनीती की रोटी सेंकने वाले या बेवाकूफजीवी अड़चन पैदा कर देते हैं | रणनीति में जोश से ज्यादा होश ज़रूरी रहता हैं | यहाँ न तो जोश सही किस्म का है और न होश| आपके इस आलेख और प्रतिक्रया को बेहद शुक्रिया | धन्यवाद | प्रीतम |

के द्वारा:

स्नेही श्री पाण्डेय जी, जिस राष्ट्रीय भावना को हिन्दू और भगवा आतंकवाद कह कर दबाने की कोशिश की जा रही है वो जल्द ही यदि नहीं चेतेगी तो कांग्रेस और अब्दुल्ला जैसे दोगले लोग लोकतंत्र की सारी परिभाषाएं ही बदल डालेंगे| कुछ राष्ट्रवादियों ने तो अपने आपको बाकायदा हिन्दू आतंकवादी कहकर संबोधित करना भी शुरू कर दिया है| ये लक्षण वैचारिक संघर्ष मात्र नहीं बल्कि एक अप्रतिम व्यवहारिक संघर्ष की बानगी प्रतीत होते हैं| राष्ट्रवादी शक्तियां अभी भी 'सुधार संभव है' मान कर चल रही हैं लेकिन उनके इस विचार को कमजोरी समझ कर यदि रोज़ ऐसे ही नए अब्दुल्ला और अरूंधती पैदा होते रहे और 'हिन्दू आतंकवाद' जैसे जुमले गढ़े जाते रहे तो एक आमूल चूल परिवार्तन की बात जोहते राष्ट्र को ज्यादा प्रतीक्षा भी नहीं करनी पड़ेगी| हमारे राष्ट्र में सर उठा रही विघटनकारी प्रवृत्ति पर एक जगाने वाला लेख लिखने पर आपको कोटिशः धन्यवाद| कलम राष्ट्र जागृति के लिए चलाने वालों की कमी के बीच आपका नाद अप्रतिम एवं प्रशंसनीय है| वन्देमातरम!

के द्वारा: chaatak chaatak

प्रिय चंदन, कश्मीर मामले पे तथाकथित बुद्धिजीवी बड़े ही शर्मनाक तरीके से देश के खिलाफ लिखते रहे हैं. कांग्रेस की नीतियों के समर्थक ऐसे बुद्धिजीवी सभी साहित्यिक-सांस्कृतिक संस्थाओं के उच्च पदों पे प्रतिष्ठित हैं. कइयों ने गैर सरकारी संगठन बना के इस सरकार से हमेशा ही बड़े अनुदानों का लाभ उठाया है. ये देश अहित में संलग्न बुद्धिजीवी राष्ट्रद्रोहियों के लिए जमीन तैयार करने का काम करते हैं. लाल चौक पे झंडा फहराना तो प्रतीक की बात है लेकिन उमर का बयान साबित करता है कि भारत के खिलाफ कुछ भी कर जाओ लेकिन उनका कुछ बिगाड़ने की हैसियत नहीं देश की. उमर का बयान साबित करता है कि भारतीय कायर हैं. अगर ऐसा नहीं होता तो उमर की क्या हैसियत थी यहॉ किसी भी देशद्रोही का वजूद नहीं होता. सटीक टिप्पणी के लिए आपका आभार. ऐसी ही अग्नि प्रज्वलित रखें अपने हृदय में.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

सही कहा संतोष जी उमर अब्दुला देशद्रोही हैं..... अरे जिस नेता का नाम राज्य के सबसे बडे सेक्स स्कैंडल में सबसे आगे हो और जो अपने राज्य में देश का झंडा फहराने पर आपत्ति जताएं उसे तो देहद्रोही करार दे कर देश से निकाल देना चाहिए.... कांग्रेस कुछ करेगी नहीं बात तो साफ है ऊपर से देश का प्रधानमंत्री ऐसा लल्लू है जो शायद खाना खाने के लिए भी गांधी परिवार से राय लेता होगा उस देश में अगर ऐसा हो रहा है तो कुछ गलत भी नहीं. आज तेलंगाना बन रहा है और देखिएगा कल जरुर कश्मीर भारत से अलग होगा औरतब भी यह कांग्रेस सरकार शांत रहेगी और कहेगी शांति रखिए जनाब.... कांग्रेस के नेताओं ने ही इन मुहफट नेताओं को (उमर अब्दुल्ला जैसे ) को सर पर चढ़ा रखा है.....

के द्वारा:

ठाकुर साहब ऐसे ही हिम्मत मत हारिये । कुछ ठाकुरों वाला हौसला भी दिखाईये । कश्मीर पिछले पांच हजार साल से भारत का अभिन्न अंग रहा है । कल्हण ने अपनी राजतरंगिणी में कश्मीर का विशद इतिहास लिखा है जो कि योगेश्वर कृष्ण के कश्मीर आने से शुरू होता है । कश्मीर पर हिंदू राजाओं ने राज किया है । कनिष्क ने चतुर्थ बौद्ध संगीति प्रथम शताब्दी में कश्मीर में कराई थी । . किस से डर रहे हैं आप । गिलानियों और अरूंधती रायों से । अभी घाटी में पिछले साल उपद्रव के लिये बकायदा पैसे दिये गये थे, यह साबित हो गया गिलानी के फोन टेप से । कोयी कश्मीरी भारत से अलग नहीं होना चाहता है । कुछ मुट्ठीभर पाकपरस्त अलगाववादी हैं और उन्हीं की भाषा उमर भी बोल रहे हैं । उमर के खून में ही अलगाववाद है । उनके दादा शेख अब्दुल्ला को जो पाठ सरदार पटेल ने पढ़ाया था वो शायद ये बाप बेटे भूल गये हैं । . ऐसी सोच रखेंगे तो शेरों का हृदय रखने वाली भारतीय सेना पर कैसे विश्वास रखेंगे । अभी आप कश्मीर लूज कर रहे हैं कल दिल्ली भी दे देंगे । ऐसे कोयी देश नहीं चलता है । पूरा कश्मीर हमारा है और पाकिस्तान भी । उनको पाकिस्तान दिया था चैन से रहने के लिये न कि हमारा चैन हराम करने के लिये । समय की बात है । बंग्लादेश बना दिया । मौका देंगे तो पख्तूनिस्तान, बलूचिस्तान बना कर पंजाब और सिंध अपने में समेट लेंगे । . ऐसे उमर अब्दुलाओं, गिलानियों, अरूंधती रायों, विनायकसेनों की ऐसी की तैसी (@#*>*!~^ɮɷɸɠɚɞͽ͏ѱѪѦѼ^||#@#~*)।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

पाण्डेय जी ! प्रणाम ! झंडा लहराना एक अति पुनीत कार्य है | पुनीत कार्य वहां किये जाने चाहिए जहां उनका सही सम्मान और पूजन हो | जहां वोह तल्खी का व्यास बन जाये वहीँ जाकर ऐसा क्यों करें जब हमारा इतना विशाल देश है जिसमें करोड़ों लोग तिरंगे पर जान छिडकने तो तैयार हैं तो ऐसे लोगों के बीच जाकर उसका अपमान क्यों करवाएं जो उसे जलाते हैं ?? आपको ओम प्रकाश राजदान जी की "Trauma of Kashmir"पढने पर पता चल सकता है के घटी में कश्मीरी जुबां में एक लोकोक्ति है "जिउ जान बंझे हिन्दुस्तानस सात दिल छुम पाकिस्तानस सात " | तर्जुमा करने की तो शायद जरूरत नहीं है | वो तो सिर्फ subsidy के लिए भारत की पीठ पर बैठे हैं | भारत से न तो वो कभी प्यार करते थे और न करेंगे ( सिर्फ घटी के लोग , लद्दाख और जम्मू के लोग तो भारत को अपना ही समझते हैं) इस तकरीबन १०० KM की घाटी पर भारत करोड़ों रूपये सुब्सिद्य में लुटाता आ रहा है | ऐसे अहसान फरामोश लोगों के बीच तिरंगे को ले जा कर उसका अपमान करवा कर कौन सी बहादुरी है ? धन्यवाद | प्रीतम |

के द्वारा:

के द्वारा: vinaysingh vinaysingh

प्रिय श्री आर.के. पांडेय जी, साधारण सी बातो को विवादों में बदलनें की नींव तो अंग्रेजों के जमाने में ही पड़ चुकी थी । अब तो राजनेता राज करने के लिए उनकी फूट डालों राज करों की नीति का ही अनुसरण कर रहे हैं और समाज उसकी कीमत चुका रहा है।  सबको साथ लेना है कह कर भी वक्‍त आने पर अलग अलग जाति का राग अलापना ही होता है । कहीं वोट ना छिटक जाए । बिहार में विकास की राजनीति मीडिया का दिया हुआ नाम है ना‍ कि लोगों ने इसे विकास की जीत माना है । वास्‍तविकता तो यह है कि लालू के राज में परिवारवाद और चमचागिरी के साथ अपराधों से त्रस्‍त जनता को जब नीतिश का शासन मिला तो लगा कि कहीं ना कहीं कुछ बदला है । चुंकि बदलाव अच्‍छा था इसलिए इसे और आगे चखनें का मन जनता का हो गया । रही बात मुख्‍यमंत्री की तो उसका निर्धारण जाति से न होकर पैसे व वोट के बल पर होता है । विधान दल के कितने बंदे किसके साथ है तथा पार्टी के शीर्ष तक कौन ज्‍यादा धन पहुँचा सकता है । तथापि आपका लेखन अच्‍छा है बहुत बहुत बधाई । अरविन्‍द पारीक

के द्वारा:

स्नेही श्री पाण्डेय जी, परिवर्तन सृष्टि का अकाट्य सत्य है वह चाहे जड़ में हो या चेतन में, समाज में हो या राजनीति में, और वह होकर रहेगा| परन्तु जातीय समीकरणों का जो खेल मंडल आयोग के बाद से देखने को मिला वह स्वाभाविक परिवर्तन को दूषित करके हुआ प्रदूषित परिवर्तन है जिसकी गंध अल्प घ्राण-शक्ति वाली (अ)न्यायपालिका को तब मिलेगी जब सडांध अपने चरम से गुजर चुकी होगी और आम आदमी को तब चेतना आएगी जब मानवता होश कोने लगेगी| आज़ादी के बाद जहाँ समाज ने जातिवाद को लगभग नगण्यता के हाशिये पर धकेल दिया है वहीं राजनीति इस जातीय दैत्य को शुक्राचार्य बनकर बारम्बार संजीवनी प्रदान कर रही है| अब तो आमूल-चूल परिवर्तन की ही बाट जोहनी होगी या फिर हर-हर महादेव का उद्घोष करना पड़ेगा| अच्छे लेखन पर एक बार फिर कोटिशः बधाईयाँ !

के द्वारा: chaatak chaatak

श्रद्धेय पांडेय जी, बिहार के चुनाव परिणामों की पृष्ठभूमि में आपका राजनीतिक भविष्य से जुड़ा विश्लेषण बहुत सटीक और यथार्थ के क़रीब लगता है । जातिगत समीकरण नेपथ्य में दिखने के बावज़ूद उनका अस्तित्व तो रहेगा ही, इससे भी इंकार नहीं किया जा सकता । जब सामंतवादी व्यवस्था ने सदियों और युगों तक राज किया, तो पिछड़ों का नेतृत्व तो अभी शैशवकाल में ही समझा जाना चाहिये । परन्तु एक बदलाव आने वाले लम्बे समय तक अवश्य दिखेगा, कि कोई पिछड़ा भी अब मात्र इस योग्यता के आधार पर नेतृत्व के स्थान पर नहीं जा सकेगा, कि वह पिछड़ी जाति का है । उसे इस क़ाबिल तो स्वयं को बनाना ही पड़ेगा कि उसकी छवि भ्रष्टाचारी, दमनकारी, दबंगमुखी और तेलपिलावन जैसी न दिखे, बल्कि जनमानस को यह विश्वास हो कि नेता जी सदन में जाकर विकास के लिये भी कुछ करेंगे । यदि ऐसी योग्यता पिछड़े अपने अंदर पैदा करते हुए मध्ययुगीन सोच से स्वयं को ऊपर उठाकर पूरे समाज के लिये सही सोच रखते हैं, तो अगड़ों के लिये चिन्ता का कोई कारण भी नहीं है । यदि अगड़े भूल से भी फ़िर से सामंतवादी युग की वापसी जैसा ख्वाब पालते हैं, तभी कोई टकराव की स्थिति आने की संभावना बनेगी । अन्यथा तो मिलाजुला प्रतिनिधित्व जैसा दिख रहा है, वही जारी रहेगा, जिसमें कोई बुराई तो है नहीं । प्रगतिशील विचार तथा उन्नत और समृद्ध समाज स्वयं जातिगत वैमनस्य को हाशिये पर ठेल देगा ।

के द्वारा: आर. एन. शाही आर. एन. शाही

प्रिय चातक जी, राष्ट्र और समाज के हित के लिए सभी को भयमुक्त कंठ सच को सामने लाने का प्रयास करना चाहिए लेकिन अधिकांश आजकल तथाकथित उदारवादी बन बैठे हैं. हालांकि वे तुच्छ लाभों के लिए निन्दात्मक कर्म अपनाने में नहीं हिचकते लेकिन जब बात संस्कृति-परंपरा, राष्ट्र और समाज के हितों की होती है तो चुपचाप पीछे हट जाते हैं. हॉ ये भी है कि इन कायरों का गुट बड़ा हो गया है और किसी भी नैतिक बात या विचार को रुढिवादी या प्रतिक्रियावादी कह के समवेत स्वर में खारिज भी करते हैं. देश में ऐसे तत्वों की बहुलता होती जा रही है, नव युवा वर्ग भ्रमित है, मार्गदर्शन कर सकने वाली अनुभवी और बौद्धिक पीढ़ी भी इसी रंग में रंगती जा रही है. कई बार तो भ्रम होने लगता है कि हम क्या हैं और क्या होते जा रहे हैं. मामले कई हैं जिन पर आपसे चर्चा होती रहेगी.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

स्नेही श्री पाण्डेय जी, काफी दिनों बाद आपने मंच पर दर्शन दिए, बड़ी शिद्दत से आपकी जरूरत महसूस हो रही थी| 'भयभीत कंठ से राष्ट्रीयता और मिथ्या विचारों से प्रेम का गान नहीं हो सकता' बताने के लिए भी किसी भयमुक्त कंठ की आवश्यकता थी| जब तक कमजोर नैतिक चरित्र के लोग हमारे बीच मौजूद हैं तब तक इन अनैतिक शक्तियों को समर्थन किसी न किसी रूप में मिलता रहेगा| मैं आपकी बात से पूर्णतयः सहमत हूँ कि- "सका केवल और केवल एक ही उपाय है वो है दंड का. भयानक दंड का, सामाजिक दंड सहित शारीरिक दंड का. और इसके सिवाय आप किन्हीं और तरीकों से इन्हें समझाना चाहेंगे तो ये आप पर ही भारी पड़ जाएंगे." अच्छे बेबाक लेख पर बधाई!

के द्वारा: chaatak chaatak

जहाँ तक मुझे लगता है जाती की राजनीती लालू ने नहीं तुम जैसे लोगो की जैसे की कांग्रेस पार्टी की सबसे बड़ी देन है. लालू ने तो गरीबो और गिरे हुआ लोगो हिम्मत दिया जिससे तुमलोगों की आज तक सुलगी पड़ी है. तुम लोगो की वजह से आज बिहार का ये हाल है. तुम लोग नितीश के साथ रहकर लालू से बदला लेने को उतावले हो रहे हो. क्योकि तुम लोगो की खुद की कोई हैसियत तो है नहीं. इसलिए चलो नितीश ही सही. तुम लोगो शर्म क्यों आती कांग्रेस और जगनाथ मिश्र का नाम लेते हुए जिसने बिहार को जातिवाद के नाम पैर सबसे पहले कलंकित किया था. उस समय तुम लोग क्या सोये हुआ थे. अगर बिहार को बनाना है तो नितीश के साथ कांग्रेस और तुम जैसे लोगो को बहार करना बहुत जरूरी है. क्योकि तुम्हारी मानसिकता अभी भी ब्रहाम्न्वादी है.

के द्वारा:

मॆरॆ ख्याल से आप सभी लोग बेवकूफ है. अगर लालू ने बिहार का बुरा किया तो नितीश ने बिहार का कौन सा काया पलट कर दिया. ३२००० करोर का घोटाला किया. बिहार की जनता को बेबकुफ़ बनाया. ३०००- ४००० का शिछ्क रख कर बिहार के स्टुडेंट का भविष्य का बेरा गर्क कर दिया. जिसे खुद पढने नहीं आता वो क्या ख़ाक पढ़ाएगा. एक कर्मचारी जिसकी तनख्वाह ३००० है . उसके पास एक ३००० का आदमी रजिस्टर बनाने के लिए रखा होता है. महीने में ३०-४० हजार रूपये कमाता है. क्या ये विकाश है.? कही भी गाँव में रोड नहीं बना , कही बिजली नहीं है, अभी गाँव में लोग रोड पैर टोइलेट जाते है. क्या ये विकाश है ? सिर्फ केंद्र सरकार ने जो रोड बनाये उसका बिहार की जनता नितीश की देन मान रहे है. ये बिहार की बदकिस्मती है की जनता को आज भी नही पता की कौन सा काम केन्र्द का है. और कौन सा काम राज्य सरकार का. आप सभी लोग वही जो पहले कांग्रेस का समर्थक थे . जिसने देश और बिहार को लुट कर जी भर के खाया अब आप लोग की टांग लालू ने सिमित कर दिए तो नितीश का चोला पहन कर बिहार को लुट रहे है. अगर आज जे. पी. जिन्दा होते तो वो मरते नहीं को दस जूते मारते और उनके चाहने वाले को बीस .अगर विकास देखना है तो उड़ीसा , कर्नाटका, राजस्थान , डेल्ही, हरयाणा, का देखो, पता चल जायेगा विकाश किसको कहते है. पर ऐसे लिखकर बिहार की जनता को और मत गिराओ.

के द्वारा:

के द्वारा:

पाण्डेय जी,सादर प्रणाम,वास्तव में बिहार का गौरवशाली इतिहास ही भारत का प्राचीन इतिहास रहा है,यदि बिहार के इतिहास को घटा दिया जाए तो भारत का प्राचीन इतिहास शून्य हो जाता है, सही है लालूजी के कुशासनकाल के कारण बिहारी शब्द एक गाली के रूप में इस्तेमाल किया जाने लगा है,जो चाहे वो बिहारियों को कुछ भी कह सकता है उनके साथ कुछ भी कर सकता है,चाहे शीला दीक्षित दिल्ली की समस्यायों के लिए बिहारियों को दोषी माने[फिर भले ही दो दिन पहले बिहार में चुनाव प्रचार के क्रम में बिहारियों की दिल्ली के विकास में योगदान की तारीफ भी कर आई हों जैसा कि नेताओं की आदत होती है] या महाराष्ट्र में राज ठाकरे के गुंडे बिहारियों को पीटें और बिहारी नेता विरोध कि रस्म अदायगी कर लेते हैं,जबकि राज ठाकरे जैसे लोग वही भाषा समझते हैं जो वो बोलते हैं,सभी प्रबुद्ध जन जानते हैं कि भारत में गणतंत्र की स्थापना भले ही २६ जनवरी १९५० को हुई हो, बिहार में गणतंत्र आज से लगभग २५०० साल पहले भी था,मुद्रा की शुरुआत उसी बिहार में शब्द 'numismatics' गढ़े जाने से बहुत पहले हो चुकी थी,राष्ट्र निर्माण की पहली नीव तो बिहार में ही पड़ी थी,बिहार न सिर्फ भौतिक,राजनीतिक बल्कि आध्यात्म का प्रणेता भी रहा है,जैन और बौद्ध धर्म का प्रादुर्भाव बिहार की पुण्य-भूमि पर ही हुआ था,लेकिन बिहार और बिहारियों की दुर्दशा के लिए कौन नेता,क्या स्थितियां जिम्मेदार रहीं इस पर विचार कर सुधार की जरूरत है,

के द्वारा:

बिहारी मजदूरों का अपने राज्य से पलायन लालू प्रसाद के वक्त से होना आरंभ हुआ. बिहार में काम धन्धे के नाम पर अपहरण, फिरौती, लूट, बलात्कार का साम्राज्य स्थापित कर लालू ने पूरा पन्द्र्ह साल का लंबा समय निकाल लिया. अच्छा हुआ जो जेपी जिन्दा नहीं हैं वरना उन्हें आत्महत्या ही करनी पड़ती अपने इस शिष्य की कारस्तानी को देखकर. जीजा-सालों की मनमानी और फिर पेटीकोट सरकार का शासन………….बड़े दुर्दिन देखे हैं बिहार ने. , . एक सज्जन जो कि बिहार के मुजफ्फपुर जिले के थे उन्होंने कहा कि बिहारी होना अपमान जनक क्यूं माना जाता है आप जानते हैं? पुनः उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि क्यूंकि आज बिहार का अर्थ है पिछ्ड़ा, जंगली, असभ्य और गंवार………..जिसे कोई सऊर ना हो. लेकिन ये हमारी वास्तविक हालत नहीं बल्कि हमारे नेताओं द्वारा दिया गया उपहार है. . आदरणीय पाण्डेय जी सादर प्रणाम । उपरोक्त पंक्तियां बिहार के बारे में कटु सत्य हैं । सत्ता की तिजारत करने वाले फिर जुटने लगे हैं । बिहारवासियों कों बहुत सोच समझ कर मतदान करना होगा । लेख से बिहार और बिहारियों की पीड़ा झलकती है । ईश्वर से प्रर्थाना है कि बिहार के लोग यह अवसर न चूकें और बिहार के गौरवशाली अतीत को दुबारा ले कर आयें । आभार ।

के द्वारा: kmmishra kmmishra

भाई श्री पाण्डेय जी लगातार दूषित होती राजनीति के दंश का दुष्परिणाम आज बिहार ही नही समूचा देश झेल रहा है ,लेकिन लालू जी ने बिहार को जातिवाद की आग में झोंककर बिहार को रसातल में पहुँचने का पुरजोर प्रयाश किया ,लेकिन यह बिहार की जनता है जिसने विद्वता के क्ष॓त्र में कभी समस्त विश्व का मार्ग दर्शन किया था ,बिहार आज भी जाग्रत है,समस्त प्रतियोगिता में बिहारी लोगों की उपलब्धियां तीस पैंतीस फीसदी रहती हैं ,,पुनह वह स्वर्णिम दिन आएगा ,आज बिहार प्रगति की राह पर है,और वहां की जागरूक जनता के कारण बिहार उसी प्राचीन गौरव को फिर से प्राप्त कर लेगा (एक बिहारी सब पर भारी )आज बिहारी लोग पूरे देश में निम्नतम से उच्चतम स्तर पर हर जगह अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं |...साभार आपका

के द्वारा:

आदरणीय बाजपेयी जी, नमस्कार.......... कई बार मैं बिहार के किसी व्यक्ति से मिलता हूं तो अक्सर वे अपनी पहचान छुपाने की कोशिश करते हैं. कितनी पीड़ा होती है मन में ये बता नहीं सकता. क्या करे एक बिहारी आदमी उसकी भी मजबूरी बन जाती है पहचान छुपाने की क्यूंकि उसे पता है कि शायद कहीं उसे हेय दृष्टि से ना देखा जाने लगे. और ये सब किया-धरा है उस राजनीति का जिस पर किसी भी क्षेत्र के विकास का दायित्व होता है. निन्दित कर्म में लिप्त अपराधियों से भरी बिहार की राजनीति ने केवल अपना विस्तार किया और जनता को छोड़ दिया मरने और मार खाने के लिए. वास्तव में ये राजनेता माफी के काबिल नहीं बल्कि इन्हें भयानक और दर्दनाक दंड देना चाहिए जो किसी भी अन्य राज्य के नेताओं के लिए सबक हो.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

स्नेही श्री पाण्डेय जी, आपने जिस तरह से इस क्षेत्रवाद की नब्ज़ पे हाथ रखा है वह काबिल-ए-तारीफ़ है| आपकी स्पष्ट सोच और विषय को पूरे संतुलन के साथ समग्रता में प्रकट करने वाली शैली का कौन ना कायल हो जाए| बिहार की दुर्दशा और बिहारी शब्द को हिकारत का प्रतीक बन जाने का जो आपने कारण बताया वह भी किसी दृष्टिकोण से दूषित नहीं है| पूरनी राजनैतिक मठाधीशी जब तक कायम रहेगी तब तक बिहार के हालत सुधरने वाले नहीं हैं| अब शायद वक्त है बिहारी युवाओं को सामने आने का| जब आई० ए० एस० और आई० आई० टी० जैसी परीक्षाओं में बिहारी प्रतिभाएं अपना लोहा मनवा सकती हैं तो इनके राजनीति में उतरने पर क्या एक सम्पूर्ण क्रांति जन्म नहीं ले सकती? जरूरत है बस अपनी शक्ति को केन्द्रित करके प्रयास करने की बदलाव की बयार स्वयं ही अनुकूल दिशा से चलना शुरू कर देगी| बिहार की समस्या को मंच पर रखने का बहुत बहुत धन्यवाद!

के द्वारा: chaatak chaatak

प्रिय डेनियल साहब, आपने अपनी अमूल्य राय जाहिर किया जिसका मैं आभारी हूं. मैंने लिखा है अपराधी आतंकवादी, अश्लील व्यवहार के समर्थकों, गे और लेस्बियन समाज तथा नचनिया वर्ग को उपेक्षित प्रताड़ित करना होगा. मेरी नजर में समाज की सही धारा को बदलने और उसे विकृत बनाने की कोशिश करने वाले किसी भी समुदाय को प्रताड़ना दिया जाना जरूरी है. और जाहिर है कि इस प्रताड़ना में केवल बहिष्कार शामिल नहीं है. इन्हें बलपूर्वक कुचल देना ही सर्वहितकारी होता है अन्यथा ये अपनी कुवृत्तियों से समाज को बर्बाद करने में कोई कमी नहीं छोड़ते. हमें ये अच्छी तरह जानना चाहिए कि अत्याधिक स्वतंत्रता केवल अराजकता का कारण बनती है और अराजकता विनाश का आमंत्रण है. इसलिए एक स्वस्थ और नैतिक समाज की रचना के लिए हर तरह के अनैतिक और व्यभिचारी तत्वों पर लगमा कसा जाना अनिवार्य है.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

मैं इस बहस पर बस यही कहूंगा कि माननीय न्यायालय द्वारा कोई निर्णय देते समय किसी व्यक्ति अथवा समाज को उस निर्णय के सापेक्ष अनुकरण करने के लिये बाध्य नहीं किया जाता कि निर्णय यदि गे या लेस्बियन को अपने ढंग की जीवन पद्धति अपनाने के लिये स्वतंत्रता दिये जाने के पक्ष में है, तो समाज में सभी उसी का अनुकरण करें, बहुत अच्छी जीवन पद्धति है । अदालतों का निर्णय व्यक्ति की व्यक्तिगत स्वतंत्रता और कई दृष्टिकोण से मानवाधिकारों की विवेचना करने के पश्चात कानूनसम्मत तर्क़ों के आधार पर होता है । पश्चिम की तरह भारतीय समाज इस प्रकार की जीवन पद्धति को शायद कभी भी सामाजिक मान्यता नहीं दे पाएगा । भारत की विभिन्नताओं के बावज़ूद इस देश के कुछ सर्वमान्य सामाजिक नियम भी हैं, जो खुले रूप में इसे स्वीकृति नहीं प्रदान कर सकते । जैसे कानूनन अन्तर्जातीय विवाह को मान्यता प्राप्त है, लेकिन समाज के बहुंसंख्य वर्ग में सामाजिक रूप से यह आज भी स्वीकार्य नहीं है ।

के द्वारा:

प्रिय पाण्डेय जी ! आपका लेख व् उसपर की गई प्रतिक्रियाएं पढ़ी , समस्याओं के समाधान का पहला चरण है *समस्याओं को सामने रखना *, जो आपने सफलता पूर्वक रखा है किन्तु दूसरा चरण *समस्याओं के समाधान की योजना बनाना* आपके लेख व् प्रतिक्रियाओं दोनों में ही उपेक्षित रही ! एक बात और आपने लिखा है:~ *अपराधी, आतंकवादी, अश्लील व्यवहार के समर्थकों, गे और लेस्बियन समाज तथा नचनिया वर्ग को उपेक्षित प्रताड़ित करना होगा. * अपराधी आतंकवादी, अश्लील व्यवहार के समर्थकों तक तो आपकी बात सर्वमान्य है लेकिन इनमें आपने *गे और लेस्बियन समाज तथा नचनिया वर्ग * को जोड़ कर अविवादित विषय को विवादस्पद बना दिया है ! मित्र ! हमारे देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले हमारे सैनिकोंमें से कितने *गे* है यह कोई नहीं जानता !! आपका यह विचार और आपके शब्द (गे और लेस्बियन समाज तथा नचनिया वर्ग को *उपेक्षित प्रताड़ित करना होगा*. ) भयभीत करने वाले है !! आप जैसे विचारक से यह आशा नहीं की जाती है आपसे अनुरोध है कि इस संवेदनशील विषय पर गंभीरता पूर्वक, बिना किसी पूर्वाग्रह के सम भाव से विचार करें............ ***धन्यवाद***

के द्वारा: daniel daniel

प्रिय पांडे जी ,, बहुत कठिन हो चूका है इस प्रश्न का उत्तर दे पाना .. की आखिर ये बदलाव क्यों हो रहा है और हमारा टेस्ट कैसे इतना सस्ता हो गया है की हम ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन कर रहे है और उसमे आनंद भी ले रहे है.. कल एक मित्र ने फोन करके बताया की वह इस समय बिग बॉस देख रहा है . और साथ में उनके घर सभी देख रहे है .. ये कार्यक्रम एक नए प्रकार से भोगियो को नए और सुनहरे रंग रूप में प्रस्तुत कर रहे है.. और ये क्या शिक्षा दे रहे है समाज को ये तो आप केवल एक ही एपिसोड देख कर जान सकते है ,, वजह सिर्फ एक ही है हम पूरी तरह बाजार की गिरफ्त में आ चुके है और उसकी गिरफ्त में ही रहना चाहते है. क्योकि वह हमरी इन्द्रिय सुखो को लुभाने वाली हर सामग्री प्रस्तुत करता है.. आप ऐसे कार्यक्रमों का केवल एक एपिसोड देखे फिर आप अपना सर पीटने लगेंगे.. की मैंने समय क्यों बर्बाद किया और कहा बर्बाद किया .. यहाँ एक बात से मै पूरी तरह सहमत हु की बुराई के विरुद्ध एक प्रकार का कट्टर व्यवहार हमें निश्चित रूप से स्वीकार करना होगा.. .. लेकिन यह संभव नहीं दीखता .. क्योकि हमारी प्रथमिकताये बदल चुकी है..नई पीढ़ी की संरक्षा , परिवार , देश ,मानवता, .. जैसे शब्द अब बकवास लगते है .. हम भौतिकता की दौड़ में सरपट भागते चले जा रहे है.. .... पीछे की तरफ देखते हुए.................

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

पाण्डेजी एक जवलंत मुद्दा उठाने के लिए बधाई, वैसे तो सविंधान में केवल तीन स्थम्भो की बात की गई है, विधायिका, कार्यपालिका, और न्याययपालिका परन्तु तथाकथित चौथा स्तंभ भी अस्तित्व में है अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अंतर्गत जिसमे (1) प्रिंट मिडिया (२) रेडियो (३) दूर दर्शन जहाँ तक पहले दो की बात है लगभग मर्यादा में रह कर समाज के लिए जो कुछ कर रहे है अगर वह उपयोगी नहीं तो अनुपोयोगी भी नहीं है हम कह सकते है की किसी हद तक मर्यादित ही हैं परन्तु जहाँ तक बात टी वी के विषय में मैं अगर यह कहूँ की भारत का टी वी मिडिया ( सरकारी दूर दर्शन को छोड़ कर ) बेलगाम है तो अतिश्योक्ति नहीं होगी - एक तरह से अगर मैं यह भी कहूँ की मिडिया भी किसी ब्लेक मेलर की भूमिका में कार्य करता है तो ठीक ही होगा क्योंकि टी आर पी के चक्कर में किसी छोटी-से-छोटी घटना तो इतना तूल देतें हैं की टी.वी . बंद करना पड़ता है जैसा की अभी हाल के दिनों में कामन वेल्थ खेलों की तैयारी के विषय में जो कार्य हो गए थे उनका तो कोई उल्लेख नहीं था पर बहुत छोटी छोटी कमियों की ओर बेवजह हल्ला मचा रहे थे कारण साफ़ था की बन्दर बाट में से कुछ हिस्सा हाथ लग जाये --- जबकि इनके इस आचरण के कारण विदेशो में भारत की छवि ख़राब हो रही थी उसकी इन्हें कोई परवाह नहीं थी -- अश्लीलता परोसने में इन्हें कोई एतराज नहीं होता है --- अब हालत यह है की टी आर पी बढ़ाने के चक्कर में सारा दिन कामन वेल्थ खेल दिखाते रहते है ---- अब तो संसद को चाहिए की इन पर लगाम लगाये -------

के द्वारा:

आदरणीय मिश्र जी, नमस्कार टिप्पणी में आपके द्वारा उठाया गया प्रश्न बिलकुल सही है. आर्थिक उद्देश्यों से संचालित होने वाला तंत्र हमेशा अपने लाभ को ही देखेगा इसमें कोई दो राय नहीं. इसी अर्थ के लिए अपनी भाषा और व्यवहार भी बदलने पड़ते हैं और जो इस तंत्र के विरुद्ध होता है उसका पतन तय हो जाता है. एक चक्रव्यूह सा निर्मित हो गया है और रास्ता अवरुद्ध नजर आ रहा है. सांस्कृतिक पतन की परंपरा चल रही है लेकिन इसे नई संस्कृतियों और रिवाजों का मेल कह के बेचा जा रहा है. बुद्धिजीवी वर्ग मर्माहत होने के बावजूद इसी की प्रशंसा करने को मजबूर है इससे बड़ी दुखदायी स्थिति क्या हो सकती है. आपकी प्रतिक्रिया के लिए बहुत-बहुत आभार.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

नायक नहीं खलनायक हैं ये। बहुत महत्वपूर्ण मुद्दा है कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया अपनी टी.आर.पी. के खेल में आगे कहां तक जाएगा? बिग बॉस ही नहीं, इन चैनलों पर नायकों को नहीं खलनायकों एवं खलनायिकाओं को ही परोसा जा रहा है। इस होड़ में कभी मीका-राखी का जबरन चुम्बन, कभी शाहिद-करीना का एम.एम.एस. ही लीड स्टोरी बनता है। और तो और प्रभु चावला जैसे बुद्घिजीवी एवं विद्वान बारम्बार राखी सावंत से ही 'सीधी बात' करते हैं। लेकिन दूसरा प्रश्न यह भी है कि आखिर ऐसे प्रोग्रामों से यदि टी.आर.पी. बढ़ेगी तो रह-रह के मीडिया ऐसे प्रोग्राम दिखाने को प्रेरित होगा और जो नहीं दिखाएगा वह आर्थिक मार खाएगा और एक दिन इंडस्ट्री से बाहर हो जाएगा। यक्ष प्रश्न यह है कि समाज के बहुसंख्यक लोगों की मानसिकता विकृत होने के कारण ऐसे प्रोग्राम ज्यादा लोकप्रिय होते हैं या ऐसे प्रोग्राम मानसिकता को विकृत करने के लिए जिम्मेदार हैं? पहले मुर्गी हुई कि अण्डा? सच तो यह है कि पहले हमारी सोच चैनल्स की प्राथमिकता तय करती है फिर उसके बाद चैनल्स पर दिखाए जाने वाले प्रोग्राम समाज की इस सोच को और बिगाडऩे का काम करते हैं। हम सचमुच एक चक्र(दुष्चर्क) में फंस गए हैं। बहुत अच्छा मुद्दा एवं विचार।

के द्वारा:

श्रद्धेय पांडेय जी, नमस्कार । आपने भारतीय समय की दुखती रग पर बिल्कुल समय पर ही हाथ रखा है । दिनचर्या, आदतें, मनोरंजन के आयाम तथा हर वृत्ति-प्रवृत्ति जिस प्रकार कलुषित होकर भी समाज के चरित्र में स्वीकार्य और समाहित होती जा रही है, वह अत्यंत चिन्ता का विषय है । इस मंच से भी लगातार इसके विरोध में आवाज़ें मुखर हो रही हैं । इसका एक ही अर्थ निकलता है कि बहुसंख्य समाज ऐसे प्रदर्शनों को थोपे जाने का पक्षधर नहीं है, बल्कि कुछ मुट्ठीभर ही लोग हैं, जो व्यावसायिक लाभ के लिये युवापीढ़ी के अंदर नकारात्मक जुगुप्सा जगाकर मालामाल हो रहे हैं, और समाज, खास कर युवापीढ़ी को चारित्रिक रूप से दिवालिया बनाने का कुत्सित प्रयास हो रहा है । कल भी एक महिला लेखिका का ब्लाग इस विषय पर आया था, उन्होंने ठीक ही कहा कि टीवी को क्या दोष देना, वह तो विज्ञान की देन है, समाज उसका उपयोग किस प्रकार करता है, यह समाज की सोच पर निर्भर करता है । ऐसे गन्दे प्रदर्शकों पर यदि रोक न लगाई गई, तो शायद बहुत देर हो जाएगी । साधुवाद ।

के द्वारा:

प्रिय श्री पांडेय जी, आपने पोस्‍ट में एक गंभीर विषय को बहुत ही सरल, सहज व सुबोध तरीके से उठाया है । आपकी ये पंक्तियां कि --- असहिष्णुता और असंयम, हिंसा और प्रतिहिंसा रहित इस मानव धर्म में अत्याचारियों को दंड देने का विधान भी है और आत्मरक्षार्थ किसी भी कठोर कदम को उठाने की अनुमति भी. ओंकार का प्रतिपालक धर्म किसी अन्य के अत्याचार के लिए किसी और को दंडित करने की बात नहीं करता और अयोध्या मामला भी कुछ ऐसा ही है. पूर्वजों के कृत्यों की सजा उनकी पीढ़ियों को क्यूं मिले? --- न केवल बुद्धिजीवी वर्ग के लिए प्रेरक है अपितु ऐसे लोग भी इसे सहजता से समझ सकते हैं जिनका पढ़नें लिखनें से कोई वास्‍ता नहीं है ।  लेकिन अतिशीघ्र हिंसक हो उठनें की प्रवृति इस अनपढ़ वर्ग में ही अधिक परिलक्षित होती है । क्‍योंकि इस वर्ग को भेड़ की तरह किधर भी हांका जा सकता है । अरविन्‍द पारीक

के द्वारा: bhaijikahin by ARVIND PAREEK bhaijikahin by ARVIND PAREEK

प्रिय चातक जी, कई बार ना चाहते हुए भी लोग भावावेश में आके गलत कदम उठा लेते हैं. समाज की इस हकीकत को जानते हुए हमें अंतिम सीमा तक प्रयास करना ही चाहिए कि शांति और सौहार्द्र में कमीं ना आने पाए. भारतीय मुस्लिम समाज तो काफी समय से राजनीतिज्ञों का वोट बैंक बन चुका है और राजनीति तो उन्हें हमेशा अपने हित लाभ के लिए गुमराह करती रहेगी. दुख होता है कि जब कई मुस्लिम बुद्धिजीवी भी कई बार इन्हीं राजनीतिज्ञों की बातों को ग्रहण कर एक अलग तरह का राग अलापने लगते हैं. किंतु इतना होने के बावजूद हमें अपना संयम नहीं खोना चाहिए और अंतिम रूप से जो भी सही है उसे उद्घाटित करने का प्रयास करना चाहिए. मानव धर्म की चिरजीविता इसी पे निर्भर है कि समाज अनेक हलचलों और तूफानों के बाद भी अपनी क्रोधाग्नि को नियंत्रण में रखे.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

के द्वारा:

ओम प्रकाश जी, मेरा आलेख केवल शिवसेना या राज ठाकरे को दोषी ठहराने के लिए नहीं है बल्कि इसका उद्देश्य कहीं अधिक व्यापक है. किसी भी प्रकार का ऐसा कृत्य जिससे राष्ट्र को हानि पहुंच रही हो या इसकी किंचित मात्र भी संभावना हो उसे माफ नहीं किया जा सकता. कांग्रेस की तुष्टिकरण की नीति भी ऐसा ही खतरनाक परिणाम देती है. नक्सलियों और उन्हें समर्थन देने वाले बुद्धिजीवी, आतंकवाद को कहीं से जायज ठहराने वाले तत्व, बुरे विचारों से लैस मीडिया, राजनीति की आड़ में अपराध कर रहे राजनीतिज्ञ यानी देशद्रोह का षड़यंत्र रचने वाला कोई भी समुदाय या तबका या कोई ऑर्गनाजेशन कैसे बर्दाश्त किया जा सकता. देश का सच्चा सपूत कहलाने का हकदार वही हो सकता है जो इस प्रकार के दुष्कृत्यों में लिप्त लोगों की भावना को समझ कर उनका यथाशक्ति विरोध करे. आपकी राय के लिए आभार.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

के द्वारा:

चातक जी, आप क्रांतिकारी विचारों से भरे-पूरे, राष्ट्रवादी व्यक्तित्व के स्वामी हैं इसलिए आपसे ब्लॉग संवाद करना मेरे लिए गर्व की बात है. कई मामलों पर आपसे साम्य स्थापित हो सकता है और कुछ ऐसे भी संवेदी मामले हो सकते हैं जहॉ हम बिलकुल विपरीत सोच रहे हों. किंतु इससे आमजन को निश्चित रूप से लाभ ही होगा और उन्हें लोकतांत्रिक ढंग से विचार करने की प्रेरणा प्राप्त होगी. यहॉ मैं आपके संदेह का निवारण भी करना चाहता हूं. पहले मैं नहीं चाहता था कि मेरा ब्लॉग जागरण ब्लॉग के रूप में सामने आए किंतु कुछ विशेष कारणों से मुझे ऐसा करने की अनुमति देनी पड़ी. रीडर ब्लॉग के रूप में आप लोगों का साथ ज्यादा बेहतर तरीके से मिल रहा था किंतु मुझे डर है कि शायद अब जबकि मेरा ब्लॉग जागरण कालम में प्रदर्शित हो रहा है तो पहले जैसी बेबाक टिप्पणियां या राय ना मिलें. यदि ऐसा हुआ तो मेरे लिखने की उपयोगिता समाप्त हो जाएगी.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

पाण्डेय जी अपने बहुत ही सामयिक ब्लॉग लिखा है बधाई.लेकिन मात्र शिव्शेना या राज ठाकरे को गली देने और जिम्मेदार ठहरा देने से बात बनने वाली नहीं जब तक उन शक्तिओ को बेनकाब न किया जाय जो बाल ठाकरे ,राजठाकरे या भिन्दरावाले पैदा करवाती है.आप याद करे की बम्बई में साम्यवादियो को कमजोर करने के लिए सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी की सरकार ने बालठाकरे को खुल केर गुंडागर्दी करने और अपने को स्थापित करने का अवसर मुहैया कराया इसी तरह पंजाब में अकालियो को कमजोर करने के लिए भिन्दरावाले को भी कांग्रेस ने ही हवा दी थी जो बादमे देश और कांग्रेस के लिए इतना धातक साबित हुआ कि इंदिरा गाँधी को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा.और आजभी आप देख ही रहे है कि राजठाकरे को किस तरह कांग्रेस की गठबंधन सरकार घोषित रूप से छुट दे रही है और हीरो बना रही है.जिस तरह बगर किसी भय के राजठाकरे के समर्थक गुंडागर्दी केर रहे और सरकार नजरंदाज ही नहीं केर रही है बरन ऐसा माहोल उपलव्ध करा रही है कि शिव सेना से बड़ी अराजक पार्टी ban जाय जिससे मराठी की बात करने वाली शिवसेना कमजोर हो जब तक कांग्रेस पार्टी जो आजभी सत्ता में है और आजादी के बाद सबसे अधिक समय तक शासन करने वाली राष्ट्रिय दल है अपनी नीतिओ को छुद्र राजनीतिक स्वार्थो के दायरे के बहार राष्ट्र हित के अनुसार नहीं बदलेगी तुष्टिकरण पैर आधारित वोते बैंक की राजनीत करेगी सांप्रदायिक शक्तिओ को नहीं रोका जा सकता क्योकि सांप्रदायिक ताकतों को खाद पानी तुष्टिकरण की वजह से ही मिलाता है.राजीवगांधी के एक निर्दय ने जिससे शाह्बानु गुजरा भत्ता मामले में सर्वोच्चा न्यायलय के आदेश को संविधान संशोधन द्वारा बदल दिया गया भारतीय जनता पार्टी को सांप्रदायिक राजनीत करने का ऐसा अवसर दिया कि पुरे देश की राजनीत की दिशा ही बदल केर रख दिया.तो पाण्डेय जी गुंडागर्दी की राजनीत या साम्प्रदायिकता की बिधातानकारी एकतरफा नहीं हो सकती वोते बैंक की राजनीत में जिस मात्र में तुष्टिकरण बढेगा तो प्रतिक्रिया होना स्वाभाविक है.

के द्वारा:

स्नेही पाण्डेय जी, देशभक्ति का सर्टिफिकेट देने लायक तो इस देश में शायद ही कोई हो और उस पर एक ऐसी पार्टी जो ख्हुद ही अलगाव-वाद, भाषा और क्षेत्रवाद के लिए कुख्यात है उसका सर्टिफिकेट तो वास्तव में शोचनीय है| श्रध्येय श्री दुष्यंत कुमार जी के शब्दों में - 'इस सिरे से उस सिरे तक सब शरीके-जुर्म हैं, आदमी या तो ज़मानत पर रिहा है या फरार|' अच्छे पोस्ट पर बधाई! (यदि आप बुरा न माने तो एक व्यक्तिगत सवाल पूछना चाहता हूँ- मुझे याद आता है कि आप शायद रीडर ब्लॉग के सदस्य थे लेकिन ये पोस्ट जागरण ब्लॉग में फीचर हुई है ये माजरा क्या है? १. मुझे ठीक से याद नहीं? (वैसे भी मुझे (सीरियसली) भूलने की बीमारी है) २. आप ने दल बदल कर लिया है? (सिर्फ मजाक) ३. जागरण का ब्लॉग सॉफ्टवेर ने गलती से आप को जागरण ब्लॉग में दाल दिया? (तकनीकी कारण) ४. उपरोक्त तीनो को छोड़कर कोई और कारण| कृपया संदेह निवारण करे (I don't mean any harm sir)

के द्वारा: chaatak chaatak

के द्वारा: manishgumedil manishgumedil

सत्ता की विशेषताए होती है... की वह निरंकुश होना चाहती है और इसलिए वह भ्रष्ट होती जाती है... लोकतंत्र को इसीलिए महत्वपूर्ण मानते है क्योकि यहाँ सत्ता पर कई नियंत्रनकर्ता होते है.... जैसे विपक्ष, जनता, मीडिया... इत्यादि ...लेकिन जैसा की आपके लेख में स्पष्ट है और सत्य भी है की आर्थिक और भौतिक शक्ति के प्रति चाह सत्ता से लेकर जनता तक में बैठ चूका है... राष्ट्र का कोई हिस्सा नियंत्रणकारी नहीं दीखता बल्कि सभी इस लूट में अपन हिस्सा पाने में लगे है और जनता भी चाहे अनचाहे ऐसी मानसिकता में खो रही है यानी विरोध की कोई गुंजाईश ही नहीं रही...और निश्चित रूप से....ये कल्पना करना ही अव्यवहारिक होगा कि इसी व्यवस्था में पला-बढ़ा व्यक्ति पावर मिलने पे परमार्थ में जिएगा.... सकारात्मक परिवर्तनों का निश्चीत नियम होता है..... यदि विकास करना है तो निचले हिस्से से शुरू करो,.... और यदि सुधार करना है तो ऊपर से शुरुआत हो...............और यहाँ तो सब उल्टा ही है ऊपर से विकास हो रहा है और सुधरने की नसीहते आम जनता को दी जा रही है ... शायद मई कुछ ज्यादा लिख गया ....अच्छी पोस्ट है आपकी हमेशा की तरह... ..

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

समाज के ऐसे तत्वों और अवसरों की तलाश और उनके इरादों को मज़बूती देना, जिनके विचारों से कुछ भी निश्छल और कर्त्तव्यनिष्ठ दर्शन की उम्मीद दिखती हो, ही एकमात्र समाधान हो सकता है । जैसे बाबा रामदेव के विचार और अभियानों को कपट और कृपणतापूर्ण नहीं, बल्कि खुले समर्थन का विगुल । यहाँ तो चक्कर ये है कि धोखे ही धोखे पाने वाले जनमानस को वहाँ भी सिर्फ़ व्यापार और पैसे का ही फ़ंडा दिख रहा है । यह जानते हुए भी कि और कोई विकल्प नहीं है, किसी न किसी राजनीतिक दल या व्यक्ति की पिछलग्गू जनता और मीडिया खुल कर ऐसे अभियान को समर्थन देने के लिये अभी भी आगे नहीं आ रही, सिवाय उन लोगों के, जो योग कर रहे हैं । ब्लाँगर्स और कर ही क्या सकते हैं सिवाय लिखने के ।

के द्वारा:

मैं पूरी तरह से पाण्डेय जी से सहमत हूँ. और अंजू जी के जो विचार है उन पर मैं केवल ये कहना चाहता हूँ की ये क़ानून मर्द प्रधान समाज ने अपने सुविधा के लिए बनाये हैं. जैसा की अंजू जी ने कहा है की क्यूँ की दोनों उस रिश्ते को आपनी मर्जी से आगे बढ़ाते हैं इस रिश्ते मैं कोई रिश्ते में कोई जबरदस्ती नहीं है. वास्तव में ये कानून है ही इसलिए की लड़की बिना सोचे इस रिश्ते के लिए तैयार हो जाये. क्योकि उसको ये समझा दिया है के आदमी अगर इसमें धोखा करेगा तो उसे अपनी गलती की कीमत भी अदा करनी पड़ेगी… और वो तैयार हो जाती है......... वो भूल जाती है की ये वो देश है जहाँ अदालत का फैसला आने तक तीसरी पीढ़ी पैदा हो जाती है... और आदमी कानून की इसी कमजोरी का लाभ उठाने के लिए आँख मूँद कर तैयार हो जाता है और फिर लड़की को धोखा दे कर चला जाता है................... अंजू जी आपको और सारी महिलाओं को ऐसे पुरुष लाभ वाले कानूनों को अपने हित में समझने से बचना होगा................

के द्वारा: Piyush Piyush

मुझे पूरा विश्वाश है की इस लेख पर कई तथाकथित उदारवादियो की विरोधी प्रतिक्रियाये होंगी.. पर इतना स्पष्ट और व्यावहारिक मूल्याङ्कन हो ही नहीं सकता है... जितनी सहजता से इस विषय को आपने समझाया है और जिस स्मार्ट पैकेजिंग व्यवस्था का हवाला दिया है ये बात बहुत आसानी से समझ में आ जनि चाहिए... ये वास्तव में प्राचीन रखैल व्यवस्था का नया रूप ही है... जिसे बाजार ने प्रयोग किया है.... पहले ऐसे बाजारुओ के लिए एक शब्द का प्रयोग होता था. वह शब्द था "'दलाल"" .....अब उन्हें कई नए नामो से बुलाया जाता है... जो देखने सुनने में ज्यादा आकर्षक लगता है...और आपने एकदम सही कहा की आजकल की नारी को बहुत ज्यादा आसानी से बेवक़ूफ़ बनाया जा सकता है और उसे ये अहसास भी नहीं होता की किस तरह वह शोषण के दलदल में फस गई है और जब पता चलता है तब तक नीचे की जमीं खिसक चुकी होती है ...और वह तमाम भौतिक संसाधनों को पाकर भी खुद को एक लाचार मजबूर ,, दुनिया की सताई हुई अवसादग्रस्त नारी कहकर अंधेरो में खो जाती है.... और दोष देती है पुरुष समाज को... आधुनिकता और स्वतंत्रता का नारा बहुत आकर्षक लगता है .....पर इसके पीछे कितनी बड़ी बाजार की शाजिश चल रही है इसका अंदाजा शायद बहुत गिने चुने लोगो को है.... आपका विश्लेषण ये कहता है की आप उन गिने चुने लोगो में एक है..... शुभकामनाये.... क्योकि आप भावना में बहकर कोरे उदारवादियो की तरह भोगवाद को बढ़ावा देने वालो में से नहीं है ....

के द्वारा:

पाण्डेय जी पता नहीं क्यूँ मुझे आपका लेख कुछ अछा नहीं लगा आपका कहना की रखेल व्यवस्था का नवीनीकरन ... वेसे तो हम लोग नारी उथान की बात करते हैं जबकि दूसरी तरफ हम लोग ही उस कानून का मजाक उड़ाते हैं की इस से अराजकता बढेगी. मैं आपसे ये जानना चाहूंगी की कैसे ...क्यों की इस कानून के बनने से मर्द उस औरत के प्रति जवाबदेह हो जायेगा इसलिए ये कानून गलत है..... मुझे नहीं लगता की ये गलत है अगर हम औरतों के हक़ की आवाज उठाने की बात करते हैं तो फिर हिचकते क्यों है , क्यूँ की हमारा समाज आदमी प्रधान है सिर्फ इस लिए...... क्यूंकि वो हर बार की तरह जवाब देने से बचना चाहता है, वो हमेशा ही नारी अस्तित्व अपने पैरों के तले रोंद देना चाहता है वो कभी नहीं चाहता की नारी सबला हो वो हमेशा यही चाहेगा की नारी अबला रहे ताकि वो उसे जब चाहे उसका भोग करे ;अगर नारी जवाब देह है तो आदमी भी उतना ही जवाब देह है क्यूँ की दोनों उस रिश्ते को आपनी मर्जी से आगे बढ़ाते हैं इस रिश्ते मैं कोई रिश्ते में कोई जबरदस्ती नहीं है. तो हम क्यों इस कानून का विरोध कर रहे है .. इस कानून के बनाए से के बाद अब वोह दूसरी औरत को अपने जीवन में लाने से पहले सौ बार सोचेगा.. क्युकी अब उसे अपनी गलती की कीमत भी अदा करनी पड़ेगी... उसे औरत को और उस बचे को पूरा सम्मान देना होगा ... मेरे विचार में तो इससे leave and relationship जैसे नए ट्रेंड का अंत होगा न की विस्तार...

के द्वारा:

पांडे जी आपका लेख पढ़कर अच्छा लगा | ख़ुशी हुई जानकर कि इस आज भी भौतिकवादी समाज में ऐसे पुरुषों की कमी नहीं जो नारी के असल उत्थान के विषय में सोचता है , न कि उसे बहलाकर छद्म नारी आजादी के नाम पर पतन की ओर या कहें कि नरक में ले जाने का पक्षधर है यदि गौर किया जाये तो आनर किलिंग कि घटनाएं भी इस ओछे निर्णय के बाद ज्यादा प्रकाश में आयीं है अब बात करें इसके पक्षधर कि - १.मीडिया, तो उन्हें तो चाहिए चौबीसों घंटें न्यूज अर्थात यदि अपराध नहीं होगें तो वे सनसनी किसे बनायेंगे कैसे कहेंगे "Exclusively on Prapanch channel " .बाकी बचे न्यायाधीश जो सुरापान करके निर्णय लेते है और वैसे भी जो निर्णय वे अपने जीवन में ले चुके होते है उसे गलत कैसे ठहरा सकते है ? और नेताओं की कारगुजारियों का स्टिंग आपरेशन तो हम प्रपंच चैनलों पर देख ही चुके है| क्यों न ऐसे नेताओं को सरे आम गोली मार दी जाये|

के द्वारा: tanaya tanaya

के द्वारा: rkpandey rkpandey

पाण्डेय जी, आपका लेख को देखते ही मैं समझ गया था कि सार्थक विचारों का प्रवाह पढने को मिलेगा| अभी जब मैं कमेन्ट लिख रहा हूँ तो मैंने पहले से आई हुई कमेंट्स को भी पढ़ा| मजे की बात ये रही कि किसी भी महिला ब्लोगर ने लिव-इन-रिलेशनशिप की तरफदारी नहीं की है| जिन लोगों ने इसकी थोड़ी बहुत तरफदारी की है उनके विचारों के आगे कहीं न कही अपरिपक्वता का पर्दा चढ़ा है| इस मामले में मैं पहले भी लिख चुका हूँ कि जो न्यायालय इसे महिला अधिकारों की पोषक कह रही है वह स्वयं मौलिक और जमीनी सोच से शून्य और नजीरों की गुलाम है| कहने का आशय ये है कि कुछ मामले जिनमे एक \'लिव-इन-रिलेशनशिप\' और दूसरी \'आनर किलिंग\' है न्यायालय और राजनेताओं के रुझान बिलकुल गैर जिम्मेदाराना हैं| जिस व्यवस्था को नारी स्वयं नकार रही है उसे जबरदस्ती उसके हित में बताकर थोपने को आपने \"रखैल व्यवस्था का बाजारीकरण\" कहकर बिलकुल उचित संज्ञा दी हैं| मुझे तो इन न्यायाधीशों के लिए \'मूढ़\' छोड़कर दूसरी कोई संज्ञा ही नहीं सूझती| जिस मामले में इनको संयम बरतना चाहिए ये बेवक़ूफ़ उसे नारी हित का नाम के कर गुमराह महिलाओं को आदर्श मानकर व्यवस्था दे रहे हैं| ये क़ानून शायद कुछेक चरित्रहीन नारियों को आर्थिक सुरक्षा देकर चरित्रवान महिलाओं के घरों को आग लगाने वाली व्यवस्था दे रहा है| ज्यादातर लोगों ने शायद इस और ध्यान न दिया हो लेकिन \'आनर किलिंग\' की घटनाएं इस क़ानून के महाराष्ट्र में प्रभावी होने के बाद से आई है| कहीं न कहीं इन दोनों के तार आपस में जुड़े हैं अगर इन दोनों को निर्विकार और ईमानदार भाव से देख कर सही रास्ता न चुना गया तो भारतीय समाज या कहें कि पूरा भारत-वर्ष पहली बार गृह-युद्ध की विभीषिका देखेगा| बहुत छोटे रूप में इसकी शुरुआत नक्सलवाद के रूप में हुई है जो इन मक्कार राजनेताओं और बेवक़ूफ़ न्यायाधीशों के रोके नहीं रुक रहा| सामाजिक ढाँचे में स्त्रियों को इस तरह षड़यंत्र रच कर गुमराह करने और उन्हें आजादी के नाम पर पतित होने की और झोंकने की सजा इस बार समाज नहीं बल्कि ये न्याय का उपहास करने वाले स्वेत-वासन अपराधी और खद्दर के पीछे छिपे कामांध जानवर झेलेंगे| यदि ये अभी न चेते तो निकट भविष्य में भारतीय इतिहास के नए अध्याय का नाम \'सम्मान-क्रान्ति\' होगा जिसमे रूस की सर्वहारा वर्ग की क्रांति की तरह सिर्फ सफ़ेद-पोश अभिजात्यों का विनाश होगा और जिस स्त्री को ये भोज्या बनाने की साजिश कर रहे हैं वो ही इस क्रान्ति का अग्रदूत होंगी| आपके पोस्ट पर आने वाली स्त्रियों की प्रतिक्रियाएं मेरी पूर्व-दृष्टि की गवाह बनेगी| सार्थक एवं चिंतनीय लेखन पर बधाई!

के द्वारा: chaatak chaatak

आदरणीय प्रभाकर जी, सबसे पहले तो मैं आपका आभार प्रकट करता हूं कि आपने अपना बेशकीमती समय मुझे दिया और मेरे ब्लॉग पर टिप्पणी की. किंतु मैं यहॉ कुछ तथ्यगत स्पष्टीकरण भी देना चाहुंगा यथा: 1. प्राचीनकाल से ही रखैल व्यवस्था और उपपत्नी व्यवस्था में साफ-साफ फर्क रखा गया. उपपत्नियां अमूमन बलपूर्वक युद्ध में जीत ली जाती थी फिर उन्हें उपपत्नी के दर्जे के साथ ससम्मान जीवन जीने का अधिकार मिलता था. 2. जबकि रखैलें स्वतंत्रजीवी महिलाएं होती थी जो यथासंभव अपने मन से किसी के साथ भी जीवनयापन कर सकती थी. उपरोक्त तथ्यों से यह सिद्ध होता है कि रखैलें और लिव इन रिलेशनशिप में रहने वाली औरतों का दर्जा एक ही हैं. लेकिन मॉडर्न डे एस्कॉर्ट सर्विसेज से इन दोनों में काफी फर्क है. क्योंकि कॉलगर्ल्स की किसी के प्रति कोई जवाबदेही नहीं होती जबकि रखैलों और लिव इन रिलेशनशिप में रहने वाली औरतों की कुछ समय के लिए जवाबदेही उसके साथ स्वाभाविक रूप से तय हो जाती है जिसके साथ वे रहती हैं.

के द्वारा: rkpandey rkpandey

राम जी, नमस्कार, लेख तो बहुत बढ़ियां है परन्तु मैं आपकी कुछ बातो से सहमत नहीं हूँ. सबसे पहले यह कि .. लिव इन रिलेशनशिप को रखैल व्यवस्था नहीं कह सकते. लिव इन रिलेशनशिप में पुरुष और औरत आमं सहमति से एक साथ रहते हैं, जब्कि रखैल व्यवस्था में ऐसा नहीं होता, वहाँ पुरुषों का आधिपत्य होता है और उसकी मनमानी चलती है. दूसरी बात यह की आपने लिव इन रिलेशनशिप का एक पहलु दिखाया है जब्कि यहाँ आपका नज़रिए द्वपक्षीय होना चाहिए. आपने लिव इन रिलेशनशिप को सिर्फ पुरुषों की देन कहाँ है जो औरतों का दमन करते है, परन्तु क्या आज इस आधुनिक समाज में जहाँ महिला पुरुषों से कंधा मिलाकर चलती है यह कहना सही है. लिव इन रिलेशनशिप बड़े शहरों में देखा जाता है और वह भी उन लोगों के बीच जो पढ़ें लिखे और नौकरीपेशा वाले होते है. अगर आप अपनी बात इन बिंदुओं पर केंद्रित करते तो शायद आपका नजरियाँ भी बदल जाता और आप “लिव इन रिलेशनशिप को रखैल व्यवस्था” नहीं कहते.

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

खुशनुमा जी , सरकार ने किसी की आवाज नहीं दबाई है सरकार ने बस ऐसे विचारो पर नियंत्रण करने का प्रयास किया है जिनसे ऐसी ताकतों को कुछ भी बोलने का मौका मिल जाता है बिना ये सोचे की उनकी विचारधारा राष्ट्र की सुरक्षा को खतरे में डालने का काम कर रही है ..जैसा की राम जी ने कहा की ऐसे लोगो की निष्ठां संदिग्ध होती है ... क्योकि यदि ये जानते हुए की नक्सली देश को अस्थिर करने वाली विदेशी ताकतों से ताकत प्राप्त कर रहे है उनके निर्देशन पर चल रहे है तो हम ये कैसे मान ले की वे केवल आदिवासी आन्दोलन के प्रतिनिधि है... पाकिस्तान चीन और बंगलादेश को भारत के आदिवासियों और गरीबो की फिक्र कबसे और क्यों होने लगी....? वे तो इन्हें प्रयोग कर रहे है मात्र भारत को अस्थिर करने के लिए.... ऐसे में सरकार का कदा कदम बहुत जरुरी है इसमें कोई शक शुबहा नहीं होना चाहिए..इनका निर्ममता से दमन करना चाहिए .. और हमें भी कड़े से कड़े शब्दों में ऐसे विचारो को प्रोत्साहन देने वालो को जवाब देना होगा की वे जो कर रहे है वह आन्दोलन नहीं ...राष्ट्र के खिलाफ षड़यंत्र है ..और यह हमें स्वीकार नहीं....राष्ट्र की सुरक्षा को खतरे में डालने वाले किसी भी आन्दोलन का पक्ष लेना उतना ही बड़ा गुनाह है ...

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

के द्वारा:

ये फैसला एकदम सही है सरकार का इन आतंकवादियों को बौद्धिक खुराक देने वालो पर तो कड़ी कार्यवाही सबसे ज्यादा जरुरी है क्योकि ये ही देश तोड़ने वालो को खाद पानी पंहुचा रहे है ....कोई भी आन्दोलन हो अगर राष्ट्र की सुरक्षा की कीमत पर उसे पलने दिया जाये तो यह देश की सत्ता की सबसे बड़ी मुर्खता होती है... और सबे बड़ा खतरा होता है ..नक्सल वाद अब गरीबो की लड़ी नहीं बल्कि गरीबो की आड़ में जीने का जरिया है.... वरना सरकार इन्हें कबका आतंकवादी घोषित कर चुन चुन कर मार देती... ये गरीबो को अपनी ढल बना कर अपना बचाव करने वाले परजीवी बने हुए है जो उनका खून खुद चूस रहे है कसाब को फासी राष्ट्र में बढे उबाल पर एक हलकी सी फुहार मात्र है जिसका कोई सकारात्मक परिणाम नहीं मिलने वाला . क्योकि वह तो बलि का बकरा है ..... जिसे पकिस्तान ने अपने मकसद के लिए कुर्बान किया ..औरइस सजा से कुछ बदलने वाला नहीं जबतक पकिस्तान के खिलाफ ऐसा ही कड़ा रुख न अपनाया जाये... ऐसे हजारो मासूम युवक पकिस्तान की गलियों में भूख से मर रहे है जो अपने परिवार की जरूरतों के लिए ...और पाक की नापाक जरूरतों के लिए अपने को अजमल कसाब बनाने के लिए तैयार खड़े है .. .. भारत की जनता इसमें ही खुश हो जाएगी और मुम्बई को भूल जाएगी तबतक ,,जबतक दूसरा कसाब पकिस्तान से नहीं आता /.... सरकार ऐसे भटके हुए कसाबो को फासी देकर अपना कर्त्तव्य पूरा मान लेगी और दुनिया को दिखने के लिए बस ट्रेन , और जाने कैसे कैसे समझौतों के लिए याचक मुद्रा में कभी पाकिस्तान के आगे तो कभी अमेरिका के आगे खड़ी रहेगी..................... क्योकि ऊपर से तो राष्ट्रवाद ख़त्म हो चूका है ... .. और नीचे महंगाई गरीबी ,,बेरोजगारी जैसे शोर में राष्ट्रवाद की भावना अंतिम साँसे गिन रही है.....

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

HAMARE YAHA YAHI SAMASYA HAIKI JABTAK PANI SER KE UPER NAHI PAHUCHTA HUM SOTE RAHTE HAI.APKA YAH SOCHANA SAHI NAHI HAI KI NAXSAL ANDOLAN SAMAPT HO CHUKA TH.IS VYAVSTHAME JAB TAK GARIBO KA SHOSAD AUR ANYAY HOGO TO USKA VIRODH BHI HOGA AUR AGER BAL PRAYOG SE VASTVIK SAMASYAP AUR VAJIB MAGO PER DHYAN NAHI DIYA JAYEGATO LOG HATHIYAR UTHANE KO BADHYA HOGE ISME AGER NAXSALVADI UNAKA SATH DETE HAI TO UNHE LENE ME KOI PARHEJ NAHI HOGA. NAXSALVADI KAHI VIDESH SE NAHI ATE AUR NA TO ATANKVADIOKI TARAH AJ TAK KOI VIDESHI UNKE SATH PAKADA GAYA HAI, AKHIR HUM KYO NAHI SOCHANEKO TAIYAR HOTEKI HAMARE DESH KE 95 adivasio ka kyo sarkar per se viswas uth gaya hai ager aisa nahi hpta to 1000 naxsalvadi aye aur hamare suracha balo ki hatya ker chale gaye aur ek bhi mukhbir hamare khufia vibha ko nahi mila.Kisi samasya ka sarali karad ker se wah samapt nahi ho jati baran aur vikaralho jati hai.,yahi naxsalvadio ke mamle me hua hai hua ise satahitarike se nipate rahe aur iska dayata badhta gaya.Akhir kyo vikas ki imat adivasio kp hi chujani padati hai. U.N.O. ki riport batati hai ki ajadi ke bad 40% adivasio ka visthapan hua hai aur un logo ki jinaki jamin isme gayi unaki halat yah hai 1949 me Damodar Ghati ki ke Matham dam ke samay Pandit Jawahar Lal Nehru ne ise vikas ka mandir bataya th aur sharm ki bat hai us vikas ke mandir me gaye jamin ke muawaje ka mukadama abhi bhi nyalay me vicharadhin hai.Aj bhi nihit swarth ki vajah se adivasio se nireeh adivasio ko TATA,BIDLA<VEDANTA MITTAL logo ke liye chatiagadh ke 500 gawa ke adivasio ko anayas naxsalvadi bata ker khadeda ja raha hai.IS PURE HINSAPER SABSE BHVNATMAK PRATIKRIYA FRANSIS DISUJA JINAKI HATYA JHARKHAND ME GALARET KER KER DI GAYI THI UNAKI PATNI KA AYA HAI KI IS MAMLE KO HINSA SE NAHI BAT CHEET SE SULJHANA CHAHIYE.Kya sarkar us bhugt bhogi mahila ki bhawanao ka samman karegi.

के द्वारा:

अब तो स्थिति और भी ज्यादा खतरनाक हो गई है जिस तरह से ये नक्सली सरकार और सुरक्षा बलों को धमकी दे रहे है और अपने खिलाफ ओपरेशन से दूर रहने को कह रहे है.... और तो और हमलो में मारे जाने वाले सुरक्षाबलों के परिजनों को मुवावजा देने के बात कर रहे है उससे स्पष्ट है की उनका इरादा एक सामानांतर सत्ता के रूप में सरकार से बात करने का है... और ये बहुत निर्णायक घडी है क्योकि अगर कदम कड़े नहीं उठाये गए... और मानवाधिकारो का राग हम अलापते रहे तो फिर ये घुन हमें पूरी तरह जीर्ड ..बना देगा.... एक कमजोर राष्ट्र ...और साड़ी उपलब्धिया धरी की धरी रह जाएँगी ... ये वो है जिनका पिछड़े और आदिवासियों के सुख दुःख से कोई सम्बन्ध अब नहीं रह अगया ... फिर हम किसलिए इनसे बात चित का रास्ता देख रहे है......इन्हें साफ़ क्यों नहीं करते//..???????????? कही स्थिति पकिस्तान वाली न हो जाये.................. अबकी मारो तब बताएँगे ....और मार खाते रहो...क्या सरकार यही चाहती है

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

वास्तव में ये समस्या सुरसा के मुख की तरह बढती ही चली जा रही है लगभग २०० जिले इनकी चपेट में है जिनमे १७० से ज्यादा जिलो में ये बेहद मजबूत है... इसका सबसे खतरनाक पहलु जो आपने बताया है वह है इनका बाहरी भारत विरोधी ताकतों से सम्बन्ध ....इसका परिणाम आतंकवाद से भी खतरनाक हो चूका है क्योकि नक्सलवाद को हमारे देश में ही एक वर्ग सही ठहरा रहा है ..और सरकारी प्रयासों को कमजोर करने में लगा है ..सरकार ने इन्हें भस्मासुर वाला आशीर्वाद तो दे ही दिया है पर यव भस्मासुर अपना हाथ आम जनता और देश की सुरक्षा व्यवस्था पर ही रखते जा रहे है ..इसलिए अब कोई उपाय होना जरुरी है ...ताकि इन्हें भस्म किया जा सके..... ये बात अब सभी जान चुके है की इनकी लड़ाई से पिछड़े इलाको के विकास का कोई सम्बन्ध नहीं रह गया ..ये किसी के हक़ की लड़ाई नहीं लड़ रहे ...ये बस अपना खुनी खेल खेल कर देश को अस्थिर करने वाली शक्तियों का हथियार बनते जा रहे है.....

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

के द्वारा: suchi suchi

सर्वोच्च न्यायालय के माननीय मुख्य न्यायाधीश द्वारा diya गया fainsala बिलकुल sahi हैं kyoki आज देश में जितनी वैश्यावृति हैं uske पीछे ka मुख्य कारण पुरुष मानसिकता हैं. इस कानून के aane या न आने से पुरुष महिला को वैश्यावृति के dhande में लाना नहीं chor देंगे. एक औरत अकेले रंडी नहीं हो सकती, उसको इस dhande में लाने वाले पुरुष ही हैं jo apne karm को छिपाने के लिए महिला को रंडी नाम दे देते हैं. जब पुरुष दो logo को एक साथ rahne को बुरा मानता हैं तो ऐसे kam करता ही kyo हैं. इसका mukahya कारण समाज ka डर हैं. yadi समाज के डर से पुरुष द्वारा खुद को बचाने के लिए से महिला को बुरा bana देना ही पुरुष मानसिकता हैं तो समाज में kuch परिवर्तन कर के पुरुष मानसिकता में badlav कर देना ही अच्छा हैं जिससे कारण बहुत से लोगो को अपनी जिन्दगी से hath नहीं धोना parega.

के द्वारा: suchi suchi

सर्वोच्च न्यायालय के माननीय मुख्या न्यायाधीश महोदय को शायद भगवान् कृष्ण के बारे में ठीक से जानकारी नहीं है | श्री कृष्ण जैसा योगी इस जगत में कोई नहीं हुआ है | राधा कृष्ण का सम्बन्ध आत्मिक था न कि शारीरिक | रामसेतु के मामले में जिन लोगों को राम के होने के शाक्ष्य चाहिए थे उन्हें कृष्ण के बारे में जानकारी होने पर आश्चर्य होता है | लिव इन रिलेशन कुछ भोगवादी लोगों का निजी मामला है जिसे किसी भी भगवान् के साथ जोड़ना उन काम पिपासु लोगों को खुली मान्यता देने की कुचेष्टा भर से ज्यादा कुछ नहीं है | इसके बाद इसे लोगों द्वारा खुले आम सड़कों पर सेक्स की छूट देने की भी मांग की जाएगी उसे भी मान लेना |

के द्वारा:

संक्षेप में सटीक बात कहना ही आपकी खूबी है इसलिए आपके विचारो का इंतजार रहता है ..मेरी समझ में नहीं आता है की कोर्ट ने ये निर्णय देने से पहले करोडो हिन्दुओ की भावनाओ को क्यों नहीं समझा ...या तो कोर्ट को कृष्ण राधा का ज्ञान नहीं है.. या फिर वह लिव इन रिलेशन का मतलब सिर्फ साथ रहना समझती है..... सर्वोच्च न्यायलय के न्यायधिशो से हम ये उम्मीद नहीं कर सकते की उन्हें ये भी ज्ञान न हो की हमारा सामाजिक ढाचा कैसा है , और ऐसे निर्णयों से ऐसे कमेन्ट से उसपर क्या प्रभाव पड़ेंगे.............. आप इतनी स्वतंत्रता मत दे दो नई पीढ़ी को की वह अपना ही घर जला दे.... मुझे लगता है की कोर्ट को भारतीय समाज की उच्च पारंपरिक सामाजिक भावना और कोर्ट के प्रति विशवास का मान रखते हुए अपना ये कमेन्ट वापस लेना चाहिए और और इसके लिए देश से माफ़ी मांगना चाहिए ...............

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

जवाब हमारे सामने है उस बदलाव के रूप में जिसे हम रोज महसूस करते है ...... हमारा सामाजिक संगठन ,अनुशाशन भौतिकवाद की अंधी के सामने डगमगा रहा है , नैतिक आदर्शो और मर्यादा की बाते आज दकियानूसी और पिछड़ेपन का प्रतिक बन चुकी है , बड़े घरो की लडकियों द्वारा वैश्यावृत्ति में लिप्त होना ये साबित करता है की हमारी भौतिक भूख अब किसी सीमा में बंधकर रहने को तैयार नहीं है , हमें सबकुछ चाहिए और तुरंत चाहिए ..आपने बिलकुल सही शब्द कहा आज की औरत को बेवकूफ नहीं बनाया जा सकता है ..जाहिर है भौति लिप्सा उसे हर सीमाए लांघने को प्रेरित कर रही है . दोष तो व्यक्ति का ही है क्यों की समझने की शक्ति उसमे ही है उसके लिए क्या उचित है क्या नहीं ..वह अपनी आवश्यकता की वेदी पर औचित्य की बलि दे रहा है ...और इसका परिणाम तो आने वाली पीढियों को भोगना ही पड़ेगा ..हमने परिवर्तन को जरुरत के हिसाब से अपनाया है औचित्य के हिसाब से नहीं ....तो जाहिर है अधिकारों की ही बात होगी ,कर्तव्यों की चक्की में कौन पिसना चाहेगा ....और उसका लाभ ऐसे ही ढोंगी बाबाओ को मिलेगा ......

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

के द्वारा:

पांडे जी अभिवादन, समाज की फटी हुई चादर पर चर्चा करने के लिए धन्यवाद. किसी बुराई को समाप्त करने के लिए उसकी शाखा पर नहीं अपितु उसकी जड़ पर प्रहार करना पड़ता है. एकल परिवारों में एक दुसरे की फिक्र करना पूरी तरह से संभव नहीं रह गया है. आज एक कोठी में मुश्किल से दो या तीन लोग रहते है, पहले दो कमरे में पांच से अधिक लोग रहते थे. सय्युक्त परिवारों में तो दो तीन पीढ़िया एक साथ रहती थी, जिससे एक दुसरे पर पूरी निगाह होती थी. बेटी बाहर जाकर पढाई कर रही है, काम कर रही है या कुछ और? इसका पता तो बस मोबाइल से ही जान कर हम खुश हो जाते है. पहले ऐसा नहीं था. युवा मन को सम्भाल पाना कोई खेल नहीं है. तब बड़ो और बुजुर्गो का अंकुश ही वह कर पाता था. जिसका आज अभाव है. फैसला हम पर की क्या फिर से सय्युक्त परिवारों का समय लौट पायेगा? आज हम पडोसी को नहीं जानते लेकिन सय्युक्त परिवारों में तो एक व्यक्ति पुरे गाव को जनता था. धन्यवाद.

के द्वारा:

बहुत संवेदनशील मुद्दा है ,जैक ने जो मजेदार कमेन्ट दिए उन्हें पढ़ के मजा आया ...वास्तव में बाज़ार हमारे विचारो पर इतना हावी हो गया है की हम हर चीज़ को एक सौदे की तरह देखते है ,दोस्ती प्यार ,शादी रिश्ते ,सब कुछ .क्या गारेंटी है की की इन सभी सवालो के मनमाफिक उत्तर देने वाला वास्तव में सही जीवनसाथी बन पायेगा ,ये तो कोन्त्रक्ट की तरह लगता है और हमारे यहाँ शादी अभी तक कांट्रेक्ट नहीं हो सकी है पर लगता है अब हो जाएगी ... ऐसे जितने सवाल और सवालो के जवाब की भीड़ बढ़ी है रिश्ते उतने ही कमजोर होते जा रहे है ....मेरे मन में एक ही सवाल उठता है इन्हें देख के ...... जिम्मेदारियों और औचित्य की जगह जरुरत और शर्ते ले रही है , कही शादी जैसा पवित्र बंधन शर्तो की अग्नि में झुलस ना जाये ?

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

राम, पाकिस्तान के साथ दोस्ती बढ़ाने की बात ठीक उसी तरह लगती है जैसे आग में हाथ बढ़ाने की बात . पाकिस्तान के साथ बार बार दोस्ती का हाथ बढ़ा कर हमारी सरकार ने यह साबित कर दिया है कि वक किस कदर अपने स्वार्थ को पूरा करने के लिए देश को बेचने के लिए तत्पर है. पाकिस्तान आज इतना आगे बढ गया है कि उसे रोकने के लिए हमें एक बडे आंदोलन की जरुरत महसुस होती है,अगर समय रहते पाक को रोका गया होता तो आज यह हालात न बनते . यहां एक बात और गौर करने की है यानि गांधीजी और नेहरु जी की भुमिका क्या रही है.इस बात को सभी मानते है कि पाकिस्तान को शह देने का काम सबसे पहले हमारे देश के महान नेता नेहरु जी और शास्त्री जी ने ही शुरु किया था और उसके बाद कांग्रेस ने भी गांधीवादी विचारधारा का अनुसरण किया है.

के द्वारा:

वैसे शादी को लेकर मैं आपको कुछ् और बताना चाहुंगा जरा ध्यान दिजिएंगा दूल्हे को घोड़ी पर क्यों बिठाया जाता है?’ जवाब-’उसे भागने का अंतिम मौका दिया जाता है।’ द्वार पूजा के ठीक बाद सास तिलक क्यों लगाती है? जवाब-’वह नजदीक से देखती है कि दूल्हा बदल तो नहीं गया!’ अरेंज मैरिज व लव मैरिज का फर्क है? जवाब सुनिये :-अरेंज मैरिज-’वन टाइम सेटलमेंट।’ लव मैरिज-’पहले इस्तेमाल करो, फिर विश्वास करो।’ अरेंज मैरिज-’पहले टेढ़ा, फिर मेरा।’ लव मैरिज-’यूज एंड थ्रो।’ अरेंज मैरिज-’पप्पू पास हो गया। (अंतिम स्थिति)।’ लव मैरिज- ‘ये तो बड़ा टोइंग है।’ अरेंज मैरिज-’रिलेशन’। लव मैरिज-’इंफौरमेशन’ (गार्जियन को)। अरेंज मैरिज-’होल लाइफ एडजस्टमेंट’। लव मैरिज-’फास्ट फूड टाइप’।

के द्वारा:

निखिल जी, बाज़ार जिसे चाहे उसे महत्वपूर्ण बना दे और जब चाहे उपेक्षित कर दे. यह एक प्रकार की स्थायित्व वाली प्रक्रिया है जिसका कोई तोड़ निकाल पाना मुश्किल ही है. यूरोप में कभी जर्मन और फ्रेंच भाषाओं का वर्चस्व था तथा अंगरेजी गंवारों की भाषा थी. किन्तु विजयी जाति ने विश्व के अधिकाँश देशों को रौंद डाला जिससे उसका हर एक सांस्कृतिक व्यवहार और रहन-सहन का तरीका ही सर्वोपरि मान लिया गया. यानी एक प्रकार की मानसिक गुलामी को एक दास की भांति हर किसी ने स्वीकार कर लिया. अब यह विडम्बना ही है कि यदि कभी आम आदमी के मनः मस्तिष्क ने विद्रोह की कोशिश की तो उसे हर जगह उपेक्षा का शिकार होना पड़ा. अब ऐसे में क्योंकर अन्य देशी भाषाओं का वर्चस्व बन सकेगा.

के द्वारा:

बाजार तो है हिंदी का पर समस्या ये है की हमारे अन्दर एक तरह की अंग्रेजियत ने घर कर लिया है जिससे हमें हिंदी से थोड़ी शर्म आती है ..बोलने ,लिखने ,व्यवहार में . टूटी फूटी सही, गलत सही पर अंग्रेजी ही सर माथे पर है . हिंदी में रचनाकारों में प्रेरणा का अभाव है . मेरा व्यक्तिगत अनुभव है की कुछ अंग्रेजी किताबे जो बेस्ट सेलर रही उनसे बहुत अच्छा होते हुवे भी हिंदी के साहित्य को बाजार में पीछे ही ढक के रखा जाता है , इलाहाबाद में केंद्रीय पुस्तकालय गया था ४ बज रहे थे और पुरे पुस्तकालय में एक भी पाठक नहीं दिखा ,, बस अलमारियो में सजा कर राखी गई हजारो पुस्तके ही दिखी , ये निराशाजनक था .मैंने बात की कर्मचारियों से ,,तो वे कहने लगे कुछ गिने चुने लोग ही अब आते है शाम के वक़्त, अब लोगो में पढने के प्रति रूचि नहीं रह गई और हिंदी की किताबे तो कम पढ़ते है लोग , आभाव रचनाकारिता का नहीं है बल्कि प्रेरणा का है , हिंदी रचनाकारों को आज मीडिया और आधुनिक रोल मोड़ेल्स एकदम ही तरजीह नहीं देते , हिंदी आज भी हमारे लिए अभिव्यक्ति का सर्वोत्तम माध्यम है , लेकिन समस्या यही है की हिंदी आउट ऑफ़ फैशन बना दी गई है . "हिंदी और अंग्रेजी के साहित्यकारों के प्रति रवैया वैसा ही है जैसा होकी और क्रिकेट के प्रति है ".

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

महोदय, अपने देश को उन्नति करते हुए देखना एक सुखदाई अनुभव है, वाहन हमेशा से ही समृधि के प्रतीक हैं, नए वाहन आ जाने से प्रतिस्पर्धा बढेगी और निश्चित ही भ्रष्टाचार भी, हमारा देश आजाद है , हमने चोरों को , अपराधियों को भी सम्मान दिया है...क्योंकि हम उस देश के निवासी हैं जहाँ देव और दानव, कीड़े और पशु भी पूजे जाते हैं (समाजवादी पार्टी के एक विधायक ट्रक चोरी के मामले मैं वांछित ) हमारे देश मैं रोज नयी इकाईयां वाहनों के उत्पादन के लिए लग रही हैं ....लेकिन केवल एक सवाल...जो आज तक किसी भी सरकार, या न्याय से सम्बंदित सम्माननीय अदालतों के करता धर्ताओं के जेहन मैं नहीं आया... क्या किसी भी विभाग ने यह जानने की कोशिश की की वाहन को खरीदने वाला , पैसा कहाँ से आया है या उस व्यक्ति की हसियत भी है या नहीं .....और तो और वह उसको खड़ा करने के लिए जगह भी रखता है या नहीं. जहाँ तक मेरा अनुमान है.....दिल्ली के अंतर्गत ८०% वाहन सड़कों पर खड़े होते हैं . किसी ने भी यह जानने की कोशिश नहीं की की इस सब मैं उनका क्या दोष है जो वाहन नहीं रखते और उनके घर पर दूसरों के वाहन खड़े होते हैं. वैसे सरकारी संपत्ति का सदुपयोग दो ही तरीके से होते देखा गया है.. एक तो पार्किंग मैं और दूसरा झुग्गियां बसाने मैं ...ताकि वोटो की गिनती कही से तो पूरी हो.

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा: rkpandey rkpandey

के द्वारा:

आरक्षण शब्द स्वयम नकारात्मक और लोकतान्त्रिक भावना के प्रतिकूल है , महिला आरक्षण को लेकर जो राजनीतिक चाले चली जा रही है वो महिलाओ का भी अपमान है और देश का भी ,आरक्षण को एक समस्या का समाधान मान कर संविधान में पिछडे वर्गों को उठाने के लिए प्रावधान किया गया था | पर आज आरक्षण को राजनीती का हथियार बना लिया गया है...और कोई मुद्दा काम करे या न करे ये हथियार जरुर अपना काम करेगा वोट दिलाने में ,आरक्षण किसी भी तरह का हो हम देख चुके है की ये उनलोगों के लिए उपयोगी नही हुआ है जो इसके वास्तविक हक़दार है , समर्थ लोग ही आरक्षण का लाभ उठा लेते है और कमजोर लोग दबे ही रह जाते है, सरकारों ने भी अपने कामचोरी और नाकारापन को छुपाने के लिए अच्छा बहाना ढूंड लिया है आरक्षण ,और जनता इसमे ही खुश हो जाती है , चाहे कोई जाती वर्ग हो महिला पुरूष उन्हें आरक्षण का लोलीपोप देने के बजे अगर व्यवस्था में सूधार किया जाए तो किसी तरह की आरक्षण की जरुरत नही पड़ेगी .हमें समझना चाहिए की कमजोर वर्गों को व्यवस्था दी जाए न की आरक्षण ,क्यों की आरक्षण का लाभ सबतक नही पहुचेगा और इससे अयोग्य लोग पद पाकर देश का नुकसान करेंगे , अगर इसी तरह से चलता रहा तो वो दिन दूर नही की जब हर व्यक्ति आरक्षण का लाभ उठाने के लिए हर तरह के जायज नाजायज प्रयास करेगा ,,,,,,,,,,,,

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

के द्वारा:




  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित